Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".
Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".

हैप्पी होली

हैप्पी होली

1 min 450 1 min 450

बैठ कन्हया बालकनी में करता है ठिठोली 

मार गुब्बारा राहगीरों को बोले हैप्पी होली 

भर पिचकारी पानी से सब पर फेंके जाए 

जो लगे निशाना सीधा झट नीचे छुप जाए 

बैठ यशोदा डाइनिंग हॉल में देख देख इतराए

सुन के किलकारी कान्हे की फूली न समाए 

तभी कहीं से गोपियों की बड़ी सी टोली आयी 

नीचे आजा डरपोक कान्हा राधिका चिल्लाई 

क्या खड़ा तू बालकनी से गली में जल बहाता है 

होली है त्यौहार रंगों का गुलाल से खेला जाता है 

सुनकर राधा की ललकार कनहैया दौड़ा दौड़ा आया 

गुंजिया खिलाई रंग उड़ाया सबको गले लगाया 

उसके बाद सारे मिलके अब्दुल के घर आए 

आजा अब्दुल होली खेलें सब मिलके चिल्लाए 

अब्दुल बोला नहीं नहीं अल्लाह होगा मेरा नाराज़ 

तुमने रंग लगाया जो मुझपे गिरेगी उसकी गाज 

कान्हा बोला रंग नहीं पसंद खुदा को 

तुझे ये बात किसने सिखाई है 

अरे सबसे बड़ा तो रंगरेज़ वही है 

जिसने ये रंगीन दुनिया बनाई है 

हंस के अब्दुल ने फिर गुलाल की पुड़िया खोली 

हर तरफ बस एक गूँज थी हैप्पी होली हैप्पी होली



Rate this content
Log in

More hindi poem from Afzal Hussain

Similar hindi poem from Abstract