Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Azhar Shahid

Abstract


4.5  

Azhar Shahid

Abstract


चलाते हैं

चलाते हैं

1 min 177 1 min 177

हम जब भी कागज़ पर कलम चलाते हैं

गोया यूँ होता है की बैठे कदम चलाते हैं।


सबने हाथों में महँगी घड़ियाँ पहन रखी थी

जिनके बोल थे की वक्त को हम चलाते हैं।


आपने जो बोला कभी करके दिखाया नहीं

ज़हीन लोग काम करते हैं ज़ुबाँ कम चलाते हैं।


न कोई जब्र न ही बंदिश कभी रखी तुम पर

दोस्त हम नहीं जो औरों पर हुकूम चलाते हैं।


अहद-ए-इश्क़ भी बच्चों की तरह ज़िदी हैं

कोई बात नहीं मानी जाती तो कसम चलाते हैं।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Azhar Shahid

Similar hindi poem from Abstract