Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Pran Kumar

Inspirational

3  

Pran Kumar

Inspirational

आज़ादी

आज़ादी

1 min
69


तुमने जन्म लिया खुली फिजा में

दर्द क्या जानो पिंजरे का।


लिखते हो तुम अपने मन का

कहते हो जो दिल में आता

दर्द क्या जानो स्वर रहते मूक बनने का


करते हो तुम केंडल मार्च

रोष खूब जताते हो

बुरा जो लगे तुम्हे

इंटरनेट पे बवाल मचाते हो

तुम दर्द क्या जानो लाला लाजपत

पे पड़े डंडो का।


हे नवदीपक भारत मां के

पढ़ो जानो और समझो

आज़ाद,भगत, बोस जैसे मतवालों को,

त्याग और समर्पण देखो

खुदीराम,तिलक,सावरकर का,

देखो और वीर रस पहचानो

 कुंवर ,लक्ष्मीबाई, टोपे 

जैसे दिलेरों से ।


भूलो मत आज़ादी के वीरों को

भूलो मत शूरवीरों के त्याग को

भूलो मत आज़ादी के मूल्यों को!



Rate this content
Log in

More hindi poem from Pran Kumar

Similar hindi poem from Inspirational