Santosh Kumar

Comedy


3  

Santosh Kumar

Comedy


आधुनिक राजनीति

आधुनिक राजनीति

2 mins 16 2 mins 16

एक नेता जी चुनाव रैली में बहुत ही शर्मा रहे थे इस पर उनके एक मित्र ने कहा "आप नेता होकर शर्मा रहे हैं भाषण देना भी कोई कला है बस बात से बात बनाते जाओ"

फिर नेता जी ने भाषण शुरू किया मेरे प्यारे भाइयों एवं बहनों"ना मैं कोई स्पीकर हूं ना ही लाउडस्पीकर,स्पीकर तो हमारे मोहल्ले के कल्लन मियां हुआ करते थे ,जो आजकल कब्र में हैं उनकी कब्र पर दो तरह के फूल चढ़ाए गए ,गुलाब और चमेली आपको तो पता ही है गुलाब से ही गुलकंद बनता है और गुलकंद ही सारी बीमारी की जड़ है और जड़ों में सबसे लंबी जड़ खरबूजे की होती है,आपको तो पता ही है खरबूजे को देखकर खरबूजा रंग बदलता है रंग जर्मनी के प्रसिद्ध होते हैं और जर्मनी में ही हिटलर हुआ था जिसके कारण द्वितीय विश्व युद्ध हुआ था,जिस विश्व युद्ध में कई शेरों दिल मारे गए और 40 शेर का एक मन होता है और मन बड़ा चंचल होता है चंचल मधुबाला की बहन का नाम था ,मधुबाला वही जिसे दिल का दौरा पड़ा था दिल एक मंदिर है और इस मंदिर के सामने कई प्राणी गुजरते रहते हैं जिसमें कई कुत्ते भी होते हैं और आपको पता ही है कुत्ते की दुम टेढ़ी होती है तो मेरे प्यारे और प्यारे भाइयों बहनों जिस दिन कुत्ते की दुम सीधी हो जाएगी मैं दुबारा भाषण देने आऊंगा धन्यवाद!


Rate this content
Log in

More hindi story from Santosh Kumar

Similar hindi story from Comedy