Trushna Das

Abstract Action Inspirational


4.8  

Trushna Das

Abstract Action Inspirational


जिने के वजह

जिने के वजह

1 min 238 1 min 238

माना की तुम्हारे जिने के  

वजह खत्म हो गया है 

मरना चाहते हो

पर मरने से पहले 


एक वार सच लो 

के तुम भी किसी के 

जिने के वजह हो 

तुम्हारे जाने के वाद 

उन लोगों के क्या होगा। 


दूसरों के जिने के वजह बन

उन लोगों के खुशी में 

अपने खुशी ढूँढो


अपने आप खुद के 

जिने के वजह 

फिर से मिल जाएगा

यही तो जिंदगी कहलाती है। 


Rate this content
Log in

More hindi poem from Trushna Das

Similar hindi poem from Abstract