Kavya Chaudhary

Drama


3.1  

Kavya Chaudhary

Drama


एक अनूठा प्रेम

एक अनूठा प्रेम

2 mins 13 2 mins 13

एक बात दिल में आती है जिससे रहता हूं बहुत उदास पर यह नहीं है कुछ खास कुछ साल पहले जब वो आई तो जिंदगी जन्नत थी और आज उसके जाने के बाद जिंदगी जिल्लत वह प्यार शायद सच्चा था सारी कायनात से अच्छा था प्यार हमारा ऐसा था चांद सितारों जैसा था प्यार के इस खेल में सब कुछ हमने खोया था फिर जिंदगी भर रोया था कुछ चंद 

 बातों की खातिर जब वह छोड़ कर जाती है एक बात समझ में आती है कि प्यार से भी बढ़कर एक बार प्यार होता है जो तुम्हारे भूखे होने पर खुद भी भूखा सोता है यह प्यार और कोई नहीं मां बाप का होता है यह तुमसे कुछ नहीं लेते है उल्टा तुमको सब देते हैं एहसान इनके इतने हैं आसमान में तारे जितने हैं जाड़े की कड़क ठंड यह पुराने कपड़ों में ही बताते हैं और तुम्हारे लिए यह नए स्वेटर कंबल लाते हैं ।

मीलों का सफर तय करते हुए हमको कंधों पर बिठाते हैं तनिक नहीं घबराते और अपनी मंजिल मिलने पर हम इनको भूल जाते हैं और इनके एहसानों को उनका कर्तव्य बताते हैं तभी हम उनकी परवरिश को गलत सिद्ध कर जाते हैं हम सभी हैं किस्मत वाले जो इतनी पावन मां पाई है और पापा का तो कहना क्या वह तो हमारी परछाई है सूखे में हमें सुलाती हैं गीले में खुद सो जाती हैं हमारी तुम्हारी चंद खुशियों के कारण खुद का दुख पी जाती हैं जो तूफानों से भी लड़ कर तुम्हारे लिए रोटियां पकाती हैं वह मां कहलाती हैं जो हौसलो आदर्शों की भट्टी में तुम्हें तपाकर बनाती हैं वह मां कहलाती है जो छोटी सी आशा से पूरा संसार बनाती हैं वह मां कहलाती है जो साधारण बच्चे को ज्ञानी पुरुष बनाती हैं वह मां कहलाती है मां एक व्यापक शब्द नहीं वह एहसास निराला है जिसको कहने के लिए यदुनंदन भी मतवाला है।


Rate this content
Log in

More hindi story from Kavya Chaudhary

Similar hindi story from Drama