Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Shalini Singh

Abstract


4.4  

Shalini Singh

Abstract


रक्षा-बंधन

रक्षा-बंधन

1 min 10 1 min 10

राखी चुनती है भाई के लिए शौक़ से

फिर बड़े लाड़ से धमकाती है

भाई सच कहती हूँ अगर सताओगे 

इस बार नहीं बाँधूँगी राखी

सूनी कलाई रह जाओगे,

बहन का झुठ समझता है वो

फिर भी लाख चिरौरी करता है 

नहीं दूँगा इस बार मैं भी उपहार तुमको कोई

न पहनी तुमने पिछले साल दी थी जो बाली नयी

बहन को दे फिर एक झूठी झिड़की

माँ के कान में हौले से कहता है,

क्या दूँ उपहार इसे! माँ तू ही कुछ सुझा!


राखी के दिन सुबह सवेरे जग जाता है 

कलाई पर इशारा कर बार बार

अपनी आतुरता दिखलाता है

बहन भी सज सँवर इठलाती है

पूजा की थाली थाम धीरे धीरे आती है

आरती कर बड़े मान से भाई की 

उसकी मंगलकामना करती वह

माथे पे उसके रोली का टीका अंकित कर 

सदविचारों को करती प्रेरित वह

कलाई पर अपना निश्चल प्यार सजाती है

हाथों से जीवन में उसके मिठास घोल जाती है

कुछ गरवित , कुछ इतराता सा भाई फिर

उपहार में लपेट उसे रक्षा का वचन थमाता है,


भाई बहन के रिश्ते को माँ अपनी समझ से सींचती है

उसके आँचल में ही यह विश्वास की बेल पनपती है

गले लगते देख स्नेह से अपने ही अंशों को

होंठों पे हँसी उसके खिलखिलाती है 

पर प्रेम से रूँध जाता है गला ,

आँखें भी नम हो जाती हैं,

,


Rate this content
Log in

More hindi poem from Shalini Singh

Similar hindi poem from Abstract