Kartvya Chaudhary

Thriller


3  

Kartvya Chaudhary

Thriller


वो रात

वो रात

3 mins 248 3 mins 248

ये उस समय की बात है जब मै अपनी ग्रेजुएशन कर रहा था ।तब दोस्तो के साथ काफी घूमना रात में बाहर जाना होता था। एक दिन मै और मेरा भाई मेरे दोस्त की बहन की शादी में गए थे, जो शहर से काफी दूर थी। वहां हम कई दोस्त मिले और फिर हम लोगो ने काफी एन्जॉय किया। बातो ही बातो में सब में शर्त लग गई कि पास के इलाके में एक कब्रिस्तान हैं,उसमे जो नहीं गया वो डरपोक । हम सब गए वहां गए बाहर आ गए।रात के क़रीब १ बज रहा था मुझे घर वापस आना था तो मै और मेरा भाई वहां से निकल आए ।रास्ते में एक जगह है ,जो साधु आश्रम के नाम से जानी जाती है वहां एक बीयर फैक्ट्री भी है। अचानक वहां से गुजर रहे थे मै बाइक चला रहा था हमारी बाइक अचानक बन्द हो गई और एक दम अपनी जगह पे जाम होगी ना आगे हटे ना पीछे वहां बिल्कुल सुनसान रास्ता था अचानक जिस फैक्ट्री में से रोशनी आ रही थी वहां की सारी लाईट बन्द हो गई, तभी हमें एक अजीब सी आवाज़ सुनाई दी पास की झाड़ियों से देखा तो वहां एक बिल्ली थी जिसकी आंखे चमक रही थी ।

अब मै और मेरे भाई ने जल्दी से बाइक स्टार्ट करने की कोशिश करी पर हमारी बाइक स्टार्ट नहीं हुई तभी वहां उस सुनसान रास्ते पर एक आदमी आया जिसकी ना उम्मीद थी ना हमने सोचा था । वो आके बोला भैया क्या हुआ है ? हम वैसे ही घबराए हुए थे उपर से बाइक स्टार्ट नहीं हो रही थी , तभी वो आदमी नजदीक आया और मुझसे कहने लगा बाइक की चाभी बन्द है ऑन कर लो, तब तो मै जल्दी से ऑन करके निकलने लगा तभी वो आदमी बोला पीछे मुड़के मत देखना , मै वहां से निकल आया मैने थोड़ी दूर जाकर पीछे मुडके देखा तो वहां कोई नहीं था एक दम सुनसान रास्ता और उसके बाद में चाभी की तरफ देखने लगा तो मेरी बाइक बिना गेयर के चल रही थीं! उसमे लाईट ऑन थी पर एक ही गेयर नहीं डाला था! वहां से थोड़ी दूर निकल कर सब नॉर्मल हो गया । मैं पूरे रास्ते बाइक की चाबी ऑफ कैसे होई वो आदमी खा से आया यही सोचता रहा । घर आके मैने ये बताया तो घर वालो ने कहा तुमने उस आदमी का शुक्रिया किया अब भगवान को शुक्रिया कहो और आगे से रात में मत जाना, यह कहे के सोने चले गए पर उस पूरी रात ना तो में ना मेरा भाई हम दोनों को नींद ही नहीं आयी , मै तो वहीं सब सोचता रहा बार बार आंख बन्द करता तो वहीं सब नजर आता था । मैने अगले दिन भगवान से प्रार्थना की और अपनी पढ़ाई करने चला गया मैने जिसको बताया वो लोग थोड़ा सा डरे और फिर हँसते हुए बात टाल दी । तो ये था मेरे साथ ज़िन्दगी में पहली बार कुछ अजीब सा डराने वाला दृश्य हुआ था ।


मै विश्वास करता हूं की अगर भगवान है तो दानव भी है ,अगर अच्छाई है तो बुराई भी है ,इंसान है तो आत्मा भी है। 



Rate this content
Log in

More hindi story from Kartvya Chaudhary

Similar hindi story from Thriller