Simmi Guru

Children


4  

Simmi Guru

Children


अप्रत्याशित

अप्रत्याशित

1 min 15 1 min 15

राकेश को हमेशा लगता था कि बच्चे उससे लगाव नहींं रखते पर कारण नहीं पता कर पाता क्योंकी वो अपने बच्चों की हर मांग पूरी करता था।

एक दिन उसकी बेटी ने एक टॉप की फरमाइश की वोखुसी से मॉल लेकर गया वह की सबसे महंगी टॉप खरीदी घर पर आकर नताशा ने टॉप पहना और बोली पाप देखो कैसी लग रही है राकेश ने बिना देखे बोलै ठीक ।नताशा रोने लगी और बोली

पाप आजतक आपने हमारे मनोभावों को नहीं समझा हमलोग आपका ध्यान चाहते है ना कि महँगी वस्तु और इसी कारण आप हमारे करीब कभी न आ पाए। आज राकेश को अपने सावल का जबाब मिल गया था।उसे याद आया कि उसने पढ़ा था कि बच्चों को समय चाहिए मार्गदर्शन के लिए न कि वस्तु।


Rate this content
Log in

More hindi story from Simmi Guru

Similar hindi story from Children