कोट्स New

ऑडियो

मंच

पढ़ें

प्रतियोगिता


लिखें

साइन इन
Wohoo!,
Dear user,

नोट : कन्टेन्ट क्रमांक चुने हुए जोनर के तहत फिल्टर में प्रदर्शित होंगे : fantasy

चलो ना ! ले चलते हैं अपने साथ प्यारा-सा ये read more

1     309    15    408

पंछी हैं वे बैठ जाते हैं किसी भी डाल पर चुग लेते हैं read more

1     28    1    5237

माखन होती अगर मैं मथुरा read more

1     960    30    37

इस रचना में रिमझिम की गिरती बूँदों ने कैसे एक स्त्री को अपने बंधनों में से बाहर निकल read more

2     1.1K    54    89

वो दिन भी क्या दिन थे, झूठ बोला करते थे, फिर भी मन के सच्चे थे, ये तो उन दिनों की read more

1     249    37    389

नादान
© Shyamm Jha

Fantasy Romance

हर बात में मेरा नाम लेना और हर बार बस यही कहना मुझे तुम से मोहब्बत नहीं सच मे तुम read more

1     14.9K    89    256

वो अंतरंग घड़ियाँ उसे याद करती हैं, ये चादर की सिलवट भी फरियाद करती read more

1     8.2K    132    337

आप चाॅंद पर गये और वह आपसे बात करने लगा तो आप क्या कहेंगे उसे...? सोचिए...!!! तब तक read more

1     209    48    459

मेरे राज़ पोशीदा read more

1     365    40    555

कोई जगह कोई दहर हो जहाँ वक़्त न पंहुचा हो अभी भी बेवक़्त पहुँचेंगे वहाँ और बैठे read more

1     21.2K    30    582

आज भी कई बार, मेरे सपनो में आते हो तुम, हर बार एक नई, उम्मीद जगा देते हो read more

1     6.9K    73    687

कुछ हसरतों के धागों की चद्दर बुनी नक्काशी भी की जज़्बातो से रेशमी सिरे जोड़कर सिनी read more

1     453    54    779

छूटा वक्त फिर से न रुबरु हो जाए, दराजों में सहेजें लम्हें न बिखर न read more

1     216    53    1017

उन्स
© Saket Shubham

Fantasy Romance

गिला तुझसे भी अब क्या करूँ जब इश्क़ तुझे हुआ read more

1     7.9K    62    1042

सपने में ही सही पर खूबसूरत रात read more

1     218    59    1044

फल तो़ड़कर खाती और पक्षियों के घोंसले सजाती read more

1     181    20    1083

देखा होता है उसने, सभ्यताओं को बसते और ढहते, बस्ती को गाँव, गाँव को नगर, नगर को read more

1     1.4K    18    1087

पिंजरे में एक तोता मेरा, पूछा उससे तू क्या कहता, बोला नीले आसमान में, उड़ान मैं भी read more

1     141    35    1152

हाँ मगर जहाँ भी रहूं मैं मेरे अपनों को नहीं भूल पाऊँगा हाँ मैं एक दिन मर read more

1     293    21    1175

मर्यादा की बेड़ियों में, अब ना कहो कुढ़ने को। तोड़ कर ये बेड़ियाँ, आसमान से read more

1     255    55    1199

बेबसी ही वजह थी दुश्मनी की, वरना फसाद कोई चाहता नहीं read more

1     187    49    1206

प्यार तो कल- कल read more

1     948    37    1221

जिनका इश्क परमान चढ़ा हो उन दिलों को कभी जुदा न read more

1     274    22    1367

डाइरी के बचे हुए read more

1     133    22    1424

ज़िंदादिली
© Husan Ara

Fantasy Inspirational

हौसला लेकर चलेंगे, तूफानों से लड़ने की तैयारी read more

1     222    53    1672

ला साकी थोड़ी तो और शराब ला सागर को छलकने दे जी भर के तू अभी अंजुम की रोशनी read more

4     282    13    1705

सच लिख सके जो अब सदा ऐसा नया अखबार read more

1     249    32    2024

हिन्द के रहने वालों आओ सब मिल कर हिन्दुतान हो read more

1     170    25    2046

क्या तुम चलोगे मेरे साथ वहाँ, जहाँ कैद हैं ख़्वाब और ख़्वाहिशें, ऊँची दीवारों से read more

2     817    23    2051

दिल में न रहे आह जिन्दगी तुझे जी भर जी read more

1     264    10    2097