Aman Kumar Thakur

Children


4.0  

Aman Kumar Thakur

Children


अदृश्य प्यार

अदृश्य प्यार

1 min 42 1 min 42

ये बात है 2018 के रक्षाबंधन के कुछ कुछ दिन पहले की है 

मैं ओर मेरी बहन अंजली में बहुत ज्यादा लड़ाई हो गयी

क्योंकि मैं उसे रिमोट नही दे रहा था उसे उस समय गाने सुनने थे लेकिन मुझे में पसंदीदा फ़िल्म देखनी थी जो की टेलीविजन पर आ रही थी। मैंने उससे कहा कि वो इंटरनेट पर देख ले। लेकिन उसने उल्टा मुझे ही कह दिया कि तुम फ़िल्म को इंटरनेट में देख लो ( पर आप लोगो को पता ही होगा बड़े स्क्रीन का मज़ा ही कुछ और हैं) इसीलिए लड़ाई बढ़ती चली गईं। हम दोनो ज़िद पर थे।

लड़ाई ज्यादा बढ़ गई थी और अब हम दोनों एक दूसरे सेे ना बात की ठान ली थी, और फिर उसी शाम अंजली साईकल से गिर गयी और उसके पैर में मोच आ गई थी। अब वो बेड पर थी उसका केअर टेकर मुझे बना दिया गया उससे मिले सारे काम मुझे करने पड़ रहे थे जैसे कि वो कहीं की रानी हो।इस तरह हम दोनों की बातें वापस से शुरू होने लगी और कुछ देर में हँसी मज़ाक होने लगी। और फिर राखी आ गई। जो कि बहुत ही उत्सह के साथ बीती। इस तरह भाई बहन का प्यार न दिखाई देते हुए भी हैं.......।


Rate this content
Log in

More hindi story from Aman Kumar Thakur

Similar hindi story from Children