Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Surendra kumar singh

Others


3  

Surendra kumar singh

Others


लौटा दो

लौटा दो

1 min 158 1 min 158

अकसर ऐसा होता है


अकसर ऐसा होता है कि

जब हम अकेले हो जाते हैं

दिमाग चिंतन प्रक्रिया से अलग हो जाता है

मन बर्फ की तरफ जम जाता है

और हृदय आनन्द से विभोर हो जाता है

हमारी जिज्ञासा हमारे पास चली आती है

जैसा कि आज आयी हुयी है

कह रही है यूँ ही आनन्द में

डूबे रहोगे या

कुछ काम धाम भी करोगे


याद है माँ ने कहा था

मैं तुम्हारी माँ हूँ लेकिन

तुम्हारी कोई सहायता नहीं कर सकती

और ये भी जिसका जो लिये हो

लौटा दो

यह कह कर चली गयी

तब से मैं सोच रहा हूँ

किसका क्या लिया है मैंने

और कुछ याद भी आया तो

समझ नहीं पा रहा हूँ लौटाऊं कैसे

और मन जो जम कर बर्फ हो गया था

पिघलने लगा है आहिस्ता आहिस्ता

हृदय जो आनन्द से विभोर हो उठा था

कुछ और अद्भुत सा

महसूस करने लगा है कि

जो मुझे नहीं चाहिये

वो क्यों दे जाते हैं लोग।


Rate this content
Log in