Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

जज्बाती दरिया !

जज्बाती दरिया !

1 min
237


एक दरिया मेरे 

महकते जज़्बातों का

वो उमड़ता है तब 

जब ज़िक्र तेरा मेरे 

कानों से गुज़रता हुआ 

सीधे जा पंहुचता है 

दिल की रसातल में 

इस जज़्बाती दरिया ने 

कभी तुझे निराश किया हो 

ये भी मुमकिन है 

क्योंकि तेरे लिए ही

दरिया का बहना अब 

बन गयी है इसकी नियति

पर इतना याद रखना

कंही सुख ना जाये 

ये जज़्बाती दरिया 

तेरी प्यास बुझाते बुझाते

रह जाए बस इसमें कुछ 

तुम्हारे फेंके पत्थर 

और तुम्हारे तन से 

निकली मटमैली धूल 

और कुछ ना बचे इसमें 

तुम्हारे कुछ अंश के सिवा !


Rate this content
Log in