Independence Day Book Fair - 75% flat discount all physical books and all E-books for free! Use coupon code "FREE75". Click here
Independence Day Book Fair - 75% flat discount all physical books and all E-books for free! Use coupon code "FREE75". Click here

विनोद महर्षि'अप्रिय'

Others


3  

विनोद महर्षि'अप्रिय'

Others


हत्यारे

हत्यारे

1 min 347 1 min 347


जब हुआ जन्म बिटिया का

लाखो ताने सहे दुनिया का


लाड़ प्यार से फिर भी पाला

फूल सा समझे अपना छाला


हुई बड़ी तो पढ़ने जाए

माॅं-बाप का मान बढ़ाये


दहलीज उम्र की वो आये

जब आंगन छोड़ वो जाए


ले बारात दूल्हा चौखट आये

दहेज के लिए फिर वो सताए


उसने कभी कुछ ना कहा

वो आखिर जाए तो कहा


नरभक्षक कभी ना समझे

उसे तो बस निवाला समझे


कभी दहेज के लिए टूटे

कभी जिस्म उसका लुटे


आखिर क्या था उसका कसूर

दिया घाव जो उसको नासूर


क्यों हम मानवता ना जाने

क्यों उसको बस गुलाम जाने


थक गई बेचारी इस जग से

ना लड़ सकी तुझसे हक़ से


कभी पूरी ना हुई उसकी आस

एक दिन मिली फंदे पर लाश!!!



Rate this content
Log in