Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

बारिश की वेदना

बारिश की वेदना

1 min 364 1 min 364

मैं घनेरे बादलों संग संग चली थी

कितने लाड प्यार से उनसे मिली थी

तपती धरा जब प्यास के व्याकुल हुई

प्यास बुझाने तब वहाँ से चल पड़ी थी


मैं धरा को नीर देकर ये क्या किया

हाय !देखो मुझको धूल में रहने दिया

फिर भी बिखेर दी है सौंधी खुशबू

आज फिर मुझको ही धूल किया


गिरी पहाड़ों के जब ऊपर चोटिल हुईं

मेरी हर बूँद बूँद क्यूँ आज धूमिल हुई

तुम विधाता रख नहीं देते धरा पर क्यूँ

आसमान से गिरकर न फिर चोटिल हुईं


मेरी पीड़ा को भी कोई महसूस करे

इतने ऊपर से गिरकर ही कुछ करे

अपने आँसू को पी कर प्यास बुझाई

हे मानव तुझको तरस जरा न आई


रात रात को बरस कर मैं भीगी हूँ

ठण्ड से काँपती ही जीती मैं

तुम ओढ़ा दो प्यार से चद्दर मुझे

बारीश की वेदना हूँ घुटकर जीती हूँ



Rate this content
Log in