Quotes New

ऑडियो

मंच

पढ़ें

प्रतियोगिता

भाषा


लिखें

साइन इन
Wohoo!,
Dear user,

नोट : कन्टेन्ट क्रमांक चुने हुए जोनर के तहत फिल्टर में प्रदर्शित होंगे : classics

वो खिड़की से झाँककर आइसक्रीम वाले को read more

1     51    0    1773

A supernatural thriller that deals with a deadly conspiracy plotted 350 years ago and takes the readers on an adventure.

ख़ुशियों की बौछार अब आई झाँसी में रानी हुईं विधवा ! काल को भी दया न आइ उदासी की read more

2     1.1K    65    108

युवा
© NIYATI PATHAK

Classics Inspirational

नफरतों के दाएरे, छोड़, आ गए जोड़ने आज हर मन read more

1     286    24    119

सच्चा दोस्त, सच्ची तड़प; सच्ची फ़िक्र, सच्ची रहनुमाई, मेरा read more

1     201    57    132

आदि है, आज है, भूत-भव का अंतराल है; भुवन की रंग-साज है, हृदय सिंधु विशाल read more

1     241    28    171

सबका यह कानून है, देता सबका साथ। कदम मिलाकर जो चले, उसके सर पे read more

1     313    20    172

बात अब भी लोग फ़रिश्तों ही सी करते हैं रूह को क़ैद रखा है जिन्होंने सदियों read more

1     562    53    174

माता मेरी ये धरा, हरियाली चहुँ ओर। सूरज करते भोर हैं, पक्षी करते read more

1     210    27    231

मैंने इंसान की जान को कुछ रुपयों में बिकता देखा है मैंने एक हसीन ज़माने को तहस नहस read more

3     14.0K    26    232

अच्छा तो यह हो कि हम ज़िन्दगी की जंग आपस में नहीं बल्कि एक-दूसरे के साथ read more

3     247    38    367

पुरुषोत्तम रहोगे तुम पर मैं सर्वोत्तम न हो read more

1     403    42    428

आए जवानी जब भी, यह प्रकृति एहसास दिलाए, क्या उल्लेखन इसका करना, ये परिपूर्ण है read more

1     349    45    487

आज का रावण जिन्दा read more

2     324    19    513

आप क्यों ये दुनिया छोड़ चले, इतनी भी क्या जल्दी read more

2     71    16    516

क्षण भंगुर संसार है यह, मिट्टी का है तू, मिट्टी में मिल read more

1     341    17    620

वह हीरा जिसकी चमक से, दुनिया चकाचौंध read more

1     32    0    637

अमृत है तेरा जल गंगा, अद्भुत है तेरा बल read more

1     290    9    649

तलाश
© Ruchika Nath

Classics Drama +1

खुश दिखने और वाकई में खुश होने का फर्क जिस दिन मिट जायेगा, आपकी तलाश खुद-ब-खुद read more

1     222    7    654

बेफ़िक्री तो मेरी अब भी, उसी बचपन की गुल्लक में पड़ी read more

1     398    44    240

खड़े हुए इस समय-श्रृंखला में हैं दोनों ही बंधे read more

1     130    3    660

जोकर
© Sonam Kewat

Classics Inspirational

वो अंदर ही अंदर खूब रोया, पर मुस्कुराहट बरकरार read more

1     46    2    663

A supernatural thriller that deals with a deadly conspiracy plotted 350 years ago and takes the readers on an adventure.

बेग़ानों को तो ख़ैर फ़ितरतन, ताउम्र बेग़ाना ही रहना था; शिक़ायत अपने साये से है जो read more

1     156    2    663

मुझको दृढ़ निश्चय जीत का हाथ मेरा जो थामे read more

1     23    1    667

पत्तों पर ठंडी मोती सम ओस की बूंदें हैं बेहद सुन्दर, बीते हुए बचपन के दोस्तों की read more

1     301    1    668

तपन भरी है ये धरा, जीव सभी हैं त्रस्त। मिलता तब आराम है, सूरज होते read more

1     108    1    668

पाँच पुत्रों की माँ होने का दान दिया अपने पुत्र होने का धर्म इस तरह निभाया read more

1     188    20    686

मैं लिखूँगा तुम्हें हर दर्द, हर उम्मीद हर एहसास read more

1     358    13    695

बहुत कम हैं जिंदगी और मौत का फासला read more

1     142    25    735

पहाड़ों का read more

1     13.4K    11    786

आज यह तिरंगा अपने सपूतों को हवाओं की मीठी मीठी थपकियाँ दे रहा read more

2     365    32    1255