Gita Parihar

Others Children


3  

Gita Parihar

Others Children


आशय

आशय

2 mins 239 2 mins 239


बच्चे जब छोटे थे, मेरी दिनचर्या में शामिल थी यह पूरी कविता।

" उठो लाल अब आंखें खोलो पानी लाई हूं मुंह धो लो..."

वह ऐसे कि मैं हथेलियों में पानी भरकर लाती, बच्चों पर छिड़कती, गाते हुए उन्हें जगाने का प्रयास करती," उठो लाल अब आंखें...

बीती रात कमल ..मेरे प्यारों अब मत सोओ।

बच्चे झुंझलाते, चिढ़ते, गुस्से में ही उठते।

"मां, सोने भी दिया करो और यह तुम्हारी पानी छिड़क कर जगाने की आदत बहुत गुस्सा दिलाती है, इसे बदल डालो।"

मैं कहती, "बिना उठाये तुम उठते नहीं, फिर स्कूल को देरी हो जायेगी, तब ?"

"अच्छा तो गाया मत करो, प्लीज़।"

मैंने तो बहुत मधुर कंठ पाया था, जहां भी एक बार गाया, बार बार गाने की फरमाइश हुई थी। पूछा,"

गाना इतना बुरा गाती हूं, क्या ?"

सोचा बच्चे मन के सच्चे होते हैं, बाहर वाले शायद यूं ही चने के झाड़ पर बैठाते होंगे, ये सच ही बताएंगे।

बच्चे बोले," मां, आप बहुत मीठा गाती हैं।"

"तो फिर ?"

"सारी चिढ़ तो इसके पहले शब्द से शुरू होती है,' उठो ', क्यों उठो ? क्यों न सोओ?

फिर बीती रात ' रात इतनी जल्दी क्यों बीत जाती है ?

' चिड़ियां चहक उठीं ' कहां जाकर चहकती हैं ये कवि की चिड़ियां, हमने तो नहीं सुना चिड़ियों का चहकना।'

नभ में देखो लाली छाई, धरती पर उजियाली छाई ' हमें तो मैदान में जाकर सूर्य दिखते हैं, यहां से उजाला नजर भी नजर नहीं आता।

और अंतिम पंक्ति ' ऐसा सुंदर समय न खोओ! ' मां, आज तो उन विकट मेम के लगातार दो पीरियड हैं, सप्ताह में आज का दिन सबसे डरावना होता है।इसलिए यह सुंदर समय तो कतई नहीं है। प्लीज़ इस गीत को मॉर्निंग अलार्म न बनाओ।"

नहीं जानती थी कि कवि की इतनी सुन्दर कविता का बच्चे यूं छिद्रानवेशण करेंगे!

क्यों बच्चों ने इससे यह आशय नहीं निकाला कि रात बीत गई ,अंधकार दूर हुआ। नया सबेरा हुआ, कमलों का कीचड़ में खिलना! अर्थात प्रतिकूल परिस्थितियों में भी अच्छाई बनाए रखना है, क्यों बच्चे ऐसा नहीं सोच पाए ? समझाऊंगी ,किसी दिन।

अब तो बस मन ही मन गुनगुना लेती हूं....बीती रात कमल दल फूले...।


Rate this content
Log in