Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

Prahladbhai Prajapati

Others


3  

Prahladbhai Prajapati

Others


सत्य दफन होके भी पनपता है

सत्य दफन होके भी पनपता है

1 min 358 1 min 358

न्यायिक कलम कार लेखा कर बुद्धिजवी व् कैमरा अपने तथ्यों को शस्त्र तो दे

मगर लोभ लालच क्रूरता जेहाद पावर व् सत्ता सबूत जब मिटा दे तो न्याय कैसे दे ?


मीडिया ट्रायल कैमरा जनभावना को न्याय देवी आँख से पट्टी का पर्दा हटा पाएगी ?

सच्ची घटना दूसरी ओर ठोस सबूत की कमी को न्याय के तराजू में न्याय कैसे दे ?


बलवान सामर्थ्यवान सत्ता सिंहासन और कुबेरी भंडार न्याय खरीद सकता है तो

न्यायिक प्रमाणिकता इंसानियत मानवता और लाचार दरिद्रता को न्याय कैसे दे ?


सबको पेट है पेट पर पाटा या पेट पे कोठार की मज़बूरी से बाहर कौन आएगा ?

मर्डर मिस्ट्री और कुमति सामर्थ्य सत्ता सम्पप्तिवान से समाज को न्याय कैसे दे ?


मरजीवा ही देश समाज और दुनिया बदल सकता है सब असामाजिक भोरिंगो से

सत्य दफन हो के भी पनपता धैर्य सतत प्रयत्नशील प्रक्रिया को लगाव हो न्याय से


Rate this content
Log in