Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Devender Kumar sharma

Children Stories Classics Children

4.5  

Devender Kumar sharma

Children Stories Classics Children

सभ्यता का तिरस्कार

सभ्यता का तिरस्कार

1 min
408


बनती बिगड़ते साए में,

तो कुछ अनकही कहे

अनु, परमाणु में

मैंने सभ्यता छोड़ते देखा है ।


टीचर के संस्कार,

मां का प्यार,

स्कूल की घंटी को,

बदलते देखी है ।

मैंने लोगों को सभ्यता छोड़ते देखा है !


कलम के सिपाही,

देख्ता लिखने से कतराते हैं।

नमस्कार, राम - राम कहने से कतराते हैं

खादी, स्वतंत्रता नकार, ब्रांडेड पहन इतराते हैं

मैंने लोगों को सभ्यता छोड़ते देखा है।


छोटू पापा कहने में कतराता है,

रिंकी मोम कहने में गर्व फरमाती है,

सामाजिक अवधारणा धूमिल हुई,

मॉडर्निटी, पोर्ट्स मॉडर्निटी हुई,

इन सबके बीच ;

मैंने लोगों को सभ्यता छोड़ते देखा है !


स्कूल विद्यालय ना रहे, व्यापार बन गए

हिंदी कमरे में, क्रंदन करती है

सॉरी, प्लीज, सुनकर अपना अस्तित्व ढूंढती है

इन सब के बदलाव में,

मैंने कुछ लोगों को सभ्यता छोड़ते देखा है !


Rate this content
Log in