Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

Akanksha Kumari

Others


3  

Akanksha Kumari

Others


मिज़ाज

मिज़ाज

1 min 155 1 min 155

आज समझ आया लोगों का मिज़ाज,

दुख में हँसने सुख में रोने का हिसाब।

हमारे सफलताओं पे भौएं चढ़ाने का

वो अंदाज़,

और विफलताओं पर ताने देने की वो

आवाज़।।


गूंजती है आज भी मेरे कानों में वो झंकार,

वो झकझोर देने वाली मेरे मन की पुकार।

सिर्फ लोगों के तानों की वजह तो नहीं थी,

एक डर सा था सीने में असफल होने का।।


सफलता की उम्मीद तो पूरी थी,

पर शायद लोगों के तानों के डर ने जीने

नहीं दिया।

और मेरी हिम्मत नहीं हुई मारने की ,

जिंदगी जीना तो कब का छोड़ दिया।।


बस इस शरीर का बोझ उठाए फिर रहें है,

छोड़ो दुनिया की परवाह करना ।

क्योंकि ये दुनिया तब तक तुम्हारा मोल

नहीं समझेगी जब तक तुम इस दुनिया

के वासी हो।।



Rate this content
Log in