Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Shayra Zeenat ahsaan

Others

3  

Shayra Zeenat ahsaan

Others

किरण

किरण

1 min
402


तुम्हें ले तो आई हूँ मैं वहाँ से

पड़े थे तुम जहाँ लावारिस

घसीट रहे थे तुम्हें कुत्ते

और बदहवास से तुम रोये जा रहे थे

बहुत जतन से सम्हाला था मैंने तुम्हें

तुम हमारी तपती ज़िंदगी में

फुहार बन कर आये थे।

उतर आया था दूध मेरी सूखी छातियों में

और लगा दिया था मैंने

एक पेड़ तुम्हारे नाम का आंगन में

देखना चाहती थी मैं कि

उसमें अब फूल आते हैं या नहीं

तुम चल रहे थे धीरे धीरे

पेड़ भी बढ़ रहा था धीरे धीरे

हम हो रहे थे मोहित

तुम्हारी हर इक अदा पर

मैं अब खुद को गौरवान्वित

महसूस कर रही थी

क्योंकि तुमने बदल दिए थे

पल में इन नामों के अर्थ

मनहूस, बांझ, कुलटा, कलंकनी

देकर मुझे नया नाम, माँ

सच में तुम मेरी ज़िंदगी के वो सूरज हो

जो लेकर आये हो हमारे

अंधेरे जीवन मे उजाले की किरण


Rate this content
Log in