Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Sandeep Kumar

Others

3  

Sandeep Kumar

Others

इधर​ उधर की बातें करके ना तुम अब बरगलाना जवाब ज़रूर देना

इधर​ उधर की बातें करके ना तुम अब बरगलाना जवाब ज़रूर देना

1 min
301


पलकें झपकाना मुड़ कर देखना

बात बात में इन्तु किन्तु खोजना


लाइक और कमेंट करने से पहले

देरो देर तक सोचना-समझना


तीखी तीखी काट कटाक्ष कर के

उलझन में पड़ा कर देरो रखना


मुझे भी ये बहुत अच्छा लगता है

दूर रह कर भी पास सा उलझना


दिन भर थक कर देर रात जगना

तेरी प्यारी बातों से दर्द चले जाना


क्या संदेश देती हैं यह कायनात

हे जानम जान हमारी तुम बताना


तुम तो बहुत शरारती हो जानम

जानते हैं पर जवाब ज़रूर देना


इधर उधर की बातें करके ना तुम

अब बरगलाना जवाब ज़रूर देना


Rate this content
Log in