Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Anita Purohit

Others

4.1  

Anita Purohit

Others

हसरत

हसरत

1 min
441


हाँ उसके चेहरे पर सलवटें है 

ज़माने की 

वह जिसने बनाया है अपना

एक शिखर 

उस मुक़ाम से ऊपर की ख़ाली

जगह को 

अब वह बड़ी हसरतों के साथ 

देखता है

और बिठाना चाहता है वहाँ अपनी 

प्रतिछाया को 

उसे जिसे ज़माने ने “बेटा” नाम 

दिया है 

अपनी उस एक ख़्वाहिश की 

पूर्ति में 

कई बार इस क़दर मायूस हुआ 

है वह 

की अपने ही बनाए ऊँचे शिखर से 

कहीं नीचे 

टिकानी पड़ी है उसे अपनी बेकस

मायूस नज़र 

उसकी उस मायूसी में फिर भी 

कभी-कभी 

आशाओं की कुछ रौशन लकीरें 

दिखती है 

तब जब वह अपनी प्रतिछायाओं में 

निर्माण की 

गंभीर कोशिशों का एक गहरा स्पंदन 

देखता है 

वो एक पल सचमुच कितना अद्भुत 

होता है 

जब निराशा के उस गहन कुहासे को 

आशा की 

छोटी सी चमक अपने वज़ूद से ढक 

देती है 

शायद इसी चमक को ही तो जीवन 

कहते है 

क्या उस मायूस पिता की प्रतिछाया 

यह चमक 

अपने आप में जज़्ब करने का हौसला

दिखा पाएगी ?


      



Rate this content
Log in