Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Ruchi Madan

Others


3  

Ruchi Madan

Others


अभी जीना है मुझे बचपन को

अभी जीना है मुझे बचपन को

1 min 358 1 min 358

चलो वापिस चले अभी बचपन

को तो जिया भी नहीं

अभी तो माँ की ऊँगली छोड़े

ज्यादा समय हुआ भी नहीं


मुझे तो आज भी खेलना है

उस गरम दुपहरिया में

अभी तो पैरो में मेरे कोई दर्द

हुआ भी नहीं


यारों के साथ कक्षा की आखिरी

बैंच पे कागज़ की नाव बनानी है

अभी तो मेरा सावन आया भी नहीं

बिन लाइट के अपनों के साथ

आसमान के तारों को मुझे गिनना है

अभी तो रात का अंधेरा कही

पसरा भी नहीं ..


बाबा के उन रुपियो से जो सारे

जहाँ को मैंने खरीदना था, वो बाजार

तो अभी खुला भी नहीं

माँ को अपने पीछे भगाना है, अभी

तो उसने मुझे छुआ भी नहीं


मेरी तो रात की कहानियाँ भी अभी

अधूरी है, उनको पूरा करने का

समय अभी हुआ भी नहीं

अभी तो मुझे जीना है अपने

बचपन को बड़े होने का समय

अभी हुआ तो नहीं...



Rate this content
Log in