Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

आँसू

आँसू

1 min
525


पतली धारा मेहनत करके

जल की बूँद बूँद बन छलके

टपकी जाती रंग बिना ही

बढ़ती सिसक सिसक सी करती

धीमे धीमे चंचलता भर

मिलती लगती हर पल हर दर


उमड़े जिन जिन उभार से यह

अविरल फूट फूट बहते हैं

हर जज्बातों की बेकरारी में

उन सोतों में बसते हैं

उभरे हलकी बढ़ती आगे फिर

एक नद जीवन गढ़ती जैसे फिर


दुःख या व्याकुलता के पल भर

धारा बढ़ती हर इतर उतर

यूँ सिसक सिसक आगे बढ़कर

मन को उखड़े, तन बिखर बिखर

लगती यह बुलाये बाहें खोले

इसमें डूबे तन मन धो लें

सांसों की हर अटक अटक में

अब कंठ भी गूँजे भटकने

छोटी सी धारा बनती जो

पूरा ही खुद डूबने को


नद बन बहती धारा अब

वश इसके अपना सारा अब

गहरी गहरी यह भयानक सी

तोड़ती साँसे अचानक ही

छोड़ा बेसुध बेसहारा

उस मखौल में जो हारा


ऐ धारा देखो अब कैसे

हर रोम सुकून को पाए

बह बहकर अपने आँसू में

मन पूरा ही यूँ जल जाए

दबती नयनों में टिककर

निकले तो छा जाती है

कोई क्या जाने यह आँसू

मन कैसे तरसाती है

 

                         



Rate this content
Log in