Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Bhavna Thaker

नयी उभरती लेखक हूँ

  Literary Brigadier

यादों की महफ़िल

Romance

फासलों की कशिश से कहाँ मरती है प्रेम की चरम।

2    21 1

अनंत प्रेम

Romance

ढोंग ना करें कभी मैं प्रिया है तू प्रियतम दो दिलों को प्रेम ही अनंत हो गया।

1    212 11

सैया बड़े रंगीले

Romance

खुद को किया समर्पित मैं तो गई ये दिल हार।

1    218 15

गीला चुंबन

Romance

आँख में भर लूँ बिखर ना जाए, ये अनमोल नगीना।

1    238 19

प्रीत

Romance

रोशन करता प्रेम मिला मेरे तम से जीवन पथ को !

1    301 32

सांझ

Romance

मधुर मिलन की बेला में बिरहन शाम भी रोती है।

1    234 30

मुझे सताता है

Romance

रूह मेरी प्यासी पाने को मचल जाए, भावनाएँ बेकल मन उनसे छिपाता है।

1    107 7

इश्क इबादत

Romance

तभी तो राधा नहीं, रुक्मिणी सा रुप ठाना है।

1    252 2

तेरी मौजूदगी

Romance

मिट्टी की नहीं बनी है तू मोह का है एक दरिया।

1    200 48

सुहानी रात उतरी है

Abstract

मंज़र हसीन था रात के शृंगार का, दिन के उजालों ने जल कर मिटाया है।

1    1 0

गज़ल

Romance

उसके दीदार से मचलते है अरमान कई, क्या अदाओं से नखरे दिखाती जाती है

1    2 0

अपने आप में बेमिसाल

Abstract

बस खुद को ढूंढ़ती एक आम सी नारी हूँ मैं।

1    212 43

उर बसी प्रीत

Romance

सजल आँख में इंतज़ार की लिए एक प्रेमिल आस।

1    169 19

आहत मन

Abstract

मेरे मासूम मन में कसक भरी चितवन में हर पल शूल चुभे निर्जन पथ पर में भाग चली

1    11 2

उन्मादीत पल

Romance

एक प्यारे से सफ़र में तुम ओर मैं बहते चले एक दूसरे की धड़कन सुने, स्वर्ग की सैर पर चले।

1    1 0

फिर लौटी हूँ

Romance

जानती हूँ अंदर ही अंदर जहाँ वसंत ने कभी कदम ही नहीं रखा उस पतझड़ में ही लौटी हूँ,

1    0 0

प्रेमिल प्रीत

Romance

उर से उमड़े अनन्त उर्मिल तप्त कणों की प्यास मंजूल मोती बिखराती प्रीत दोनों

1    40 2

मैं शिद्दत से याद आऊँगी

Romance

आख़िर में जब थक कर चूर हो जाओ और साथ न कोई संगी हो.. जब सारी दुनिया खंगाल लो

1    0 0

बिखरी तकदीर

Abstract

है कहीं कोई आसमान ऐसा जिसमें दिखे मुझे कोई चाँद चमकता।

1    0 0

जानलेवा ख़ुमार

Romance

नींदों में ख़्वाबों में अँखियन की चाहों में।

1    249 28

गज़ल

Romance

अंजाम ए मोहब्बत पर मेरे हंसता है जहाँ सारा, संगदिल तूने इश्क का इशारा दिखाया क्यूँ है।

1    20 1

छुपा लो यूँ दिल में

Romance

सजा लो न मुझे सीपी में मोती सी मन की संदूक में बिखर न जाऊँ कहीं माला से बिछड़कर

1    1 0

तेरी आवाज़ का जादू

Romance

तेरी आवाज़ का स्वाद कभी घुल जाता है मिसरी बन मेरे लबों पर

1    3 0

तेरे इश्क में

Romance

मैं वार दूँ अपना सब कुछ तेरे इश्क में मेरी जाँ चाहे फ़ना हो जाए।

1    284 32

तुम ही तो हो

Romance

मतलब तुम ही हो जिसकी मुझे तलाश थी।

1    231 30

प्रेम पूजा

Romance

प्रीत की परछाई सी इश्क इबादत है प्रेम ही है प्रार्थना।

1    237 35

बाद तुम्हारे

Romance

समझ नहीं आया कि बाद तुम्हारे क्या आता है।

1    162 10

बेनमून दीपक

Abstract

डूबने वाले का उदय निश्चित है बस भोर का इंतज़ार करने में आलस ना हो।

2    232 29

आ जाओ तुम

Romance

यूँ रुठकर ना जाओ तुम पास मेरे आ जाओ तुम।

1    263 13

गुलज़ार यादें

Romance

ढूँढे चलो एक दूजे को आरती अज़ानों में

1    0 0

मेरी तमन्ना

Romance

कारवां सफ़र पे निकला, मंज़िल है आगोश तुम्हारी।

1    179 27

इश्क का धुआँ

Romance

हल्के से नशेमन में बहकना है बेहद पसंद मुझे।

1    235 29

मुबारक हो

Romance

ऐसे, जैसे आग झरते जेठ में सावन की फुहार से तुम बरसे मेरे उर आँगन में,

1    3 0

मेरी मिल्कीयत के वारिस

Romance

विषय अनेक, किस्से लाजवाब उसको चुरा कर उसे ही लिखती हूँ

1    21 1

प्रीत का शामियाना

Romance

अमलतास सी वफा की छाँव ही छाँव बरसती है।

1    143 39

उफ्फ़ ये रात

Romance

हया का चिलमन हटा लूँ तो पहर आगे बढ़े।

1    175 3

तेरे इश्क में

Abstract

मन लहर बना गंगा की चाहत पावन पिया की पाकर तन दीये सा रौशन हो गया

1    294 40

बस भी करो

Romance

समझ नहीं पा रही मेरा आँचल छोटा है या तुम्हारे एहसान बड़े क्यूँ समेट नहीं पा रही।

1    255 46

देखा है कभी?

Abstract

एक तान बजती है ज़िंदगी की सतह पर झूमती, नाचती मदहोशी के आलम में,

1    3 0

ज़िंदगी के पन्नों पर

Romance

वो चाँदनी रात में पायल निकालकर तुमसे मिलने चुपके से आना, टिमटिमाते तारों की गवाही संग

1    2 0

तुम को तुम से चुरा लूँ

Romance

आहिस्ता बलखाती चाल से नज़ाकत चुरा लूँ, है दिल ए तिश्नगी आँखों से तेरी जाम चुरा लूँ।

1    131 11

हौसला

Inspirational

ये फिर वही धुन तुझको सुनाने वापस तेरी दहलीज़ पर लौटेंगे।

1    23 1

अलविदा

Abstract

मैं खुद को जाते हुए सिर्फ देखती ही रह गयी।

1    241 52

सात फेरे

Romance

हाँ नायाब ही तो हूँ मैं

2    283 13

धूमिल शाम

Romance

करीब आओ मेरी हसरत के सितारे भर दूँ तुम्हारे गम सभर आसमान की गोद में झिलमिला उठे

1    24 1

यादों के रंग

Romance

कहाँ कोई और है मेरा गुज़री जो तुम संग वो ज़िंदगी अभी भी

1    168 15

कठिन रहगुजर

Romance

अँजुरी भर पानी दे दो अपने भीतर से उड़ेल कर राह के हादसों से लहू-लुहान ज़ख्म को धो लूँ

1    102 5

ख़्वाबगाह

Romance

एक दूसरे की धड़कन सुने, स्वर्ग की सैर पर चले।

1    206 15

लफ़्ज़ मेरे लौट आए

Romance

जलते ज्वालामुखी से दिल के भीतर लफ़्ज़ो ने अंगड़ाई ली है.!

1    21 1

फासलो में प्यार

Romance

तुम्हारी याद मेरी इबादत मेरी मुस्कान तुम्हारी प्रार्थना

1    196 36

मेरा बेटा मेरा अभिमान

Abstract

मुझे तो मेरे दोनों बच्चों से एक सा प्यार मिला है हाँ भावनाएँ जताने में बेटियों की तरह। ...

2    43 2

बहुत नायाब हूँ मैं

Romance

मंदिर की आरती संग बतियाते मेरे गले में हार डालकर खुद को मुझे सौंपना सातवाँ फेरा

2    60 3

कल्पना

Romance

मन मंदिर में प्रियवर की सुंदर सी छवि कुछ यूँ उभरे।

1    189 37

तुम और मैं

Romance

कल कल बहती कालिंदी पर छाया पड़ी कदंब की,

1    2 0

पल पल की दूरी

Romance

क्यूँ पल-पल का साथ भी अब पल-पल की दूरी लगती है।

1    303 0

उसके बाद

Romance

लब पर ठहरे जो इश्क का आगाज़

1    169 18

आ जाओ ना

Romance

क्या फिर अवतरित होंगे सूरज की तरह स्पंदन के मोती, क्या कड़वा कसैला वक्त बीतेगा कभी.!

1    5 0

बस भी करो

Romance

उठा लूँगी हौले से तुम्हारी प्रीत को, ऊँगली पर उठाता है जैसे कोई तितली को...

1    3 0

शायद एक सपना

Inspirational

कहीं पैसों की खनखन का शोर तो कहीं भूखे पेट की भड़भड़ाती ज्वाला

1    0 0

तेरी आवाज़

Romance

जब-जब बोझिल लम्हें मुझे घेरते हैं तब-तब तुम्हारी आवाज़ अपनी आगोश में लेती है।

1    176 25

आँखों की केमेस्ट्री

Abstract

दिल के एहसासों को तोलती है मन की मुरादें फूट पड़ती है, आँखें कहाँ चुप रहती है आईने सी इठला...

1    290 39

मेरे चाहने वाले की आदत है

Romance

कुछ व्हिस्की ने असर दिखाया खता कुछ रेशम से गेसू की मेरे चाहने वाले की आदत है मेरे गेसू स...

1    301 11

मैं नदी छरहरी

Abstract

भूलने वाली चीज़ नहीं मैं ताउम्र उसकी स्मृतियों की संदूक में रहूँगी जलती धूनी सी।

1    250 10

जामुनी शाम

Romance

तुम्हारी नासिका से बहती संदल सी महकती साँसे टकराती हैं मेरे वजूद को नशेमन में बहकाती !

1    123 17

हम तुम और चाँद

Romance

अधरों पर अधरों के स्पर्श से उभरी मौन को चिरती एक सिसकी निकल कर बैठ गई दो उर की दहलीज़ पर

1    211 19

एक रिश्ता दर्द भरा

Romance

मन भटक रहा है उस अवस्था को ढूँढता एक ठोकर की दहलीज़ पर।

1    237 14

मेरा आशियाँ

Abstract

जलन की सीलन और इर्ष्या के धुएँ को जो मात दे.! परत चढ़ा लूँ कुछ अहसास की घर के रोम-रोम पर दर्द की ...

1    32 1

मासूम कश्मीर

Abstract

सपनो की सैर पर अपनों से मिलने खेलने माँ की कोख में भारत की गोद में मिट्टी को चूमती

1    21 1

मैं प्यासी तुम सराबोर

Romance

एक खुशबू की तलाश में फिसलते तन का नक्शा मेरा रट लिया समेट लिया मुझे खुद में.!

1    277 25

मेरा घर

Others

साथी हो सोनार सा जिसे फख़्र हो अपनी शुद्धता पर खरे सोने सा, उसकी हथेलियों पर बाँध लूँ आशियान...

1    194 40

इश्क

Romance

बाजार का रुख़ किया कुछ लेना था शायद भूल जाते हैं ना कुछ-कुछ कभी-कभी क्या लेना था

1    264 24

आग इश्क की

Romance

यूँ तुम्हारा तकना हया की बंदिशों को तोड़कर मेरी निगाहों का बहकना रात के आँचल में छुप कर सिता...

1    292 35

रहने दो न छेड़ो

Romance

पलना उम्मीद का न झूलाओ रहने दो न छेड़ो बेपीर बेजुबाँ मेरी चाहत को नगमों से बेनज़ीर

1    237 26

मैं दीवानी

Romance

छील जाती है हथेलियाँ, वो नम आँखों से मिट्टी पोतते मेरे गालों को सहलाता मेरे सारे दर्द को खुद...

2    261 19

कली सिमट गई

Others

जवाब भी चंचल सी गंभीर नाद सी दरिया सी लगे कभी आग सी हल्दी से नहाई संगमरमर सी मरहमी ...

1    240 41

गुनगुनाते कश्मीर

Others

हक अपने स्वर्ग पे पाकर हर नर नार के उर में बहती फुहार ख़ुशियों की स्वर्ग से सुंदर रचना ईश की...

1    269 26

ख्वाबों का कारवां

Abstract

ये देखो देखा मैंने आज एक खिड़की खोलकर ये हाँ ये मेरे हिस्से का टुकड़ा आसमान का

1    160 8

दोस्ती को दोस्ती ही रहने दो

Romance

इतने रिश्तों को खो कर मुझे सिर्फ़ एक प्रेयसी बनकर रहना नहीं , सिवा दोस्त के और रिश्ते संग चलना...

1    298 0

तिश्नगी

Romance

यूँ तुम्हारा तकना हया की बंदिशों को तोड़कर मेरी निगाहों का बहकना रात के आँचल में छुप कर सिता...

1    266 1

रुका हुआ फैसला

Romance

एक वादे के बदले हमने लूटा दिया खुद को, अब उम्मीद का दामन थामें या हसरतों का घोंट दे गला !

1    220 2

मरहमी शाम

Romance

कहकर जाने के रास्तों पर अफ़सोस के बोसे से लिपटा वो लम्हा मेरी उम्मीद पर रोता है कहाँ लौटकर...

1    273 2

हिम का बुत

Others

जलना है जलती रहेगी सहते सहते गर्म बाण शब्दों के उबलते तरकस से निकलते छलनी करते..!

1    287 2

खुशियों की दस्तक

Inspirational

सदियों से पड़े पत्थर को पिघला कर एक नये आयाम ने दस्तक दी सुर्ख रुख़सार पर हँसी की..!

1    360 2

ख़्वाबों का जहाँ

Romance

खामोशी के मेले में हम तुम अकेले हो चाँद के झूले पर तुम्हारी गोद में सर रखकर सो लूँ।

1    43 1

आँसू छिपाती पगली

Others

हिमखंड सी नर्म सौम्य रोम रोम पिघलती एक तपिश ज़िंदगी की कहाँ जाए कोई, अपने ही जब दर्द दे फ़रिय...

1    83 4

मेरी शिद्दत

Romance

कभी रात का सफ़र हो तो तकना आसमान और सितारों के बीच एक जहाँ मेरे असंख्य अनदेखे सपनों का भी बस...

1    242 1

तलब

Romance

तुम्हारे अंगूठे की आहट से बार-बार मेरे दिल में छिपे अहसास जाग उठते है हो चली थी जब दूर तुम्ह...

1    300 0

'रिक्तता'

Others

जीते जी समझा होता गंगा सी आज खाक़ न उड़ती मेरी यूँ चिल्लाती..!

1    103 0

मेरी छवि

Others

तुलसी सी पावन मेरी उर धरा में रमती चलती है मेरा आँचल थामे पग-पग बेफ़िक्री की चद्दर ओढ़े, मेरी...

1    312 1

मुझे हारना पसंद नहीं

Others

एक बार अहसास में बसकर कह दो ना तुम जिताओगे मुझे! कर दोगे न उल्टा इस नीचे गिरती रेत के उदास कण...

1    283 0

तसव्वुर का दर्पण

Romance

हकीकत से परे वो साया कितना लुभावना था उस जादुई संसार में डूबकर अहसासों को सहलाना दिल में गुदग...

1    279 1

वो बादल आवारा नहीं था

Romance

और हम दोनों चलते रहे मैं इस किनारे वो उस किनारे शब्दों की पतवार थामे !

1    312 3

इतना रश्क क्यों

Inspirational

जायका जो बदल लिया मैंने हो चुका बहुत मीठा अब थोड़ा तीखा हो जाए!

1    307 1

संवेदना की सरिता

Inspirational

हर अहसास, हर ठोकर, और स्पर्श के अनगिनत किस्से छपे होते है..! पोरों की नमी से छूना कभी जल जाए...

1    317 1

पहली बारिश और तुम

Romance

बरसात की बूंदों से एक दर्द उठा आज करारा की तुम याद आ गए.. छम छम बौछार से एक तप्त आह उठी क...

1    190 3

तुम ही तुम हो

Romance

मेरी मनोदशा के मालिक तुम मेरे सपनों पर, मेरी धड़कन पर, मेरी तसल्लीयों में, मेरी गमगीनीयों में...

1    195 1

ज़िंदगी की ताने

Abstract

ज़रूरी तो नहीं की ज़िंदगी का हर फैसला हमें मंज़ूर हो । बस चुनने है हमारे हिस्से के समिध हमें जिसमें य...

1    23 1

पहली बारिश और तुम

Romance

सरक गया बदली का घूंघट, झूम के सावन नाच उठा, दामिनी जब गरज उठी, दिल अचानक मुस्काया

1    46 1

स्त्री

Abstract

सुबह से शाम तक दिन रथ पे सवार एक ज़िस्त में असंख्य किरदारों से लिपटी औरत की शख़्सियत पे ही य...

1    202 2

कोई वो अभिराज सा

Romance

मधुमास की पहली बेला में विरह की पीर हर गया वो आँसू के सागर भरती आँखों में प्रेमिल पुष्प भ...

1    275 4

भोग मुक्त इश्क

Romance

भोग मुक्त इश्क की परिभाषा स्पर्श से परे स्पंदनों में सिमटकर तुम्हारी आगोश में भी रहूँ मैं...

1    366 6

तुम्हारी चेतना हूँ

Romance

नम हो जाए कभी दर्द से बोझिल नैना बस याद कर लेना मुझको शीत परत संदल सी बनकर लेपन सी पलकों ...

1    20 1

गज़ल

Tragedy

इश्क की आग है बड़ी ज़ालिम कौन बच पाया है, दिल के भोलेपन ने भावना को झुकाया क्यों है॥

1    83 1

मेरा भारत महान

Abstract

भगत सिंह आज़ाद की सरपरस्ती क्या कहना, राम, श्याम, हनुमान की भूमि है भारत माता।

1    394 2

रात की बाँहों में

Romance

प्रेमी ने चूम लिया जब पलकों को मेरी अधरों से सपनें से मैं आ गिरी हकीकत के जहाँ मैं टूट ...

1    112 2

अब दर्द नहीं होता

Romance

दर्द नहीं होता आँखें नहीं छलकती एक असीम शांति का व्याप्त मन में उतरता है

1    102 2

प्यार का मौसम

Romance

क्या कभी आओगे तुम ?

1    123 5

यादों का अस्ताचल

Abstract

जहाँ से कोई कभी ना मुड़ने के लिए।

1    61 2

पेड़ो का दर्द

Inspirational

पर तुम दोनों के दिल कि रुह यानी की मैं अब भी तड़प रहा हूँ बंधन से बंधा हूँ,

2    5 0

आत्मा के हथियार, कागज़ कलम दवात

Others

दिल की दलदली ज़मीन के भीतर पड़े एहसासों को मिलता है अनुभूतियों का आवेग

1    52 1

सात फेरों का मान

Abstract

काश की चुका पाती मैं भी आसमान सा भरपूर।

1    243 0

मानवता ही धर्म है

Abstract

एकजुट हो जाओ सब ये दुकान बंद हो जानी है।

1    200 1

क्रिकेट का दंगल

Others

देश बड़ा विचलित है खड़ा कप की लालच में है पड़ा खूब जमेंगे चौके-छक्के रह जायेंगे हक्के-बक्के...

1    306 2

क्यूँ दूर हो गये हम

Romance

हम वहां से भी लौट आयेंगे जहाँ से मुड़कर कोई नहीं आता।

1    294 2

भरोसा

Romance

मान तो रखना ही था अपने अज़ीज़ का, कैसे तबाह होने देती एक अटूट भरोसे की डोर मेरी ऊँगलि...

1    87 0

कल रात

Romance

खिड़की से झाँकता था बदमाश चाँद रोज़ देखता था तुम्हारी अठखेलियां..!

1    87 1

मासूम पौधा

Others

गमले वाला नीर से सिंचा कोख वाले को खून से

1    87 4