Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
हँसी और हिमनद
हँसी और हिमनद
★★★★★

© Arpan Kumar

Others

4 Minutes   14.4K    12


Content Ranking

 

एक लड़की हँसती है

जी भर हँसती है

शुरू में मंद-मंद

और बाद में पूरे ज़ो से

मगर यह क्या

उसकी हँसी एकदम से यूँ ध्वनिरहित

हँसते-हँसते वह लोटपोट हो जाएगी

मगर क्या मज़ाल

कोई सुन ले उसकी हँसी 

वह तो गर्दन झुकाए

अपने अंदर फूटते

सूर्योदय की ऊर्जा से ही

चालित हो रही है

और हँसते हुए उसका बदन

पेड़ की किसी लचकती डाली सा

कंपायमान है  

सुबह की क्रमश:  तेज़ होती रोशनी

में उसका चेहरा नहा-नहा जाता है

वह हँस रही है, हँसे चले जा रही है

वह जितनी बार अपने होठों के

युगल-पट बंद करना चाहती है

अंदर से हँसी का कोई नया झोंका

उसे बार-बार खोल देता है 

वह परेशान हो-होकर खुद को ही कोसती है ...

मुई मेरी यह हँसी किसी दिन

मेरी जान निकाल कर ही रहेगी

देखो तो कितनी बेलज्ज और ढीठ है

यह ख्याल तक नहीं करती कि

आस-पास बैठे लोग क्या सोचेगे

बस कहीं भी किसी बात पर शुरू हो जाती है

लड़की को याद आते हैं.........

कैशोर्य के अपने वे खुले

और उन्मुक्त दिन

जब वह सुबह-सुबह

हुगली के तट पर

सैर को निकल जाती थी

तब माँ के

लाख ताकीद करने के बावजूद

ओढ़नी  अपने स्थान पर

कहाँ टिक पाती थी 

वह मेरी किसी दुष्ट

और दु:साहसी सहेली की तरह

मेरे गले से लिपट अपने ही नशे में रहती

मैं आगे की ओर चली जा रही हूँ

और वह पीछे की ओर

अपनी दोनों बांहें पसारे

जाने किससे क्या बतिया रही है

और जाने किसको क्यों मुँह चिढ़ा रही है

हवा में फड़फड़ाती ओढ़नी

मुझे भी किसी पक्षी सा

डैने रखने का आभास कराती

मगर तभी मुझे

अपने अगल-बगल के

लोगों का ध्यान आता

और मैं उसकी दोनों चोटियों को

अपनी मुट्ठी में ले 

पहले तो उनका गठबंधन कराती

और फिर

उन्हें अपने गर्दन से बांध लेती

मानों अभी-अभी हवा को पूरे रफ्तार से

अपने फेफड़े में भरते

और भरपूर  उड़ान भरते पक्षी ने

अचानक से अपने डैंनों को

समेट लिया हो

मैं घर पहुँचती, उसके पहले

सुबह की मेरी  इस उड़ान भरी सैर के

नमक-मिर्ची लगे किस्से

मेरे आंगन में

मेरी माँ और बहनों के साथ

मेरा इंतज़ार कर रहे होते

मैं अपनी माँ के नकली गुस्से का जवाब

उसकी ठोढ़ी पकड़ कर देती....

माँ तुम समझती क्यों नहीं

तुम्हारी बेटी मैं हूँ, यह ओढ़नी नहीं

मैं तो तुम्हारी हिदायतों का  ध्यान रखती हूँ

मगर इसे कौन समझाए ...

और फिर मैंमेरी माँ और

मेरी बहनें ठठाकर हँस पड़तीं

वह लड़की यहाँ दिल्ली में

मेरी बात पर यूँ चुपचाप हँसते हुए

जाने कब और कैसे

हुगली और हावड़ा से होकर जाती है

और कैसे-कैसे रंगों में

डूबती-उतराती चलती है

मैं ठिठक कर उसकी इस आवाजाही को

किसी मूकदर्शक सा

देखता भर चला जाता हूँ

वह लड़की किसी मंजे एथलीट सा

झट आज-कल और कल-आज के बीच

कूदती-फाँदती चलती है

तभी तो………

आज भी वह वैसे ही

खुद को मजबूर बताती है

जैसे हुगली के तट पर अपने सैर के

उन दिनों में बतलाया करती थी

बस जगह बदली है

मगर इस शोख लड़की के

बहाने बनाने के अंदाज़ नहीं बदले

घर की जगह होस्टल ने ले ली

और माँ की जगह

होस्टल के वार्डन ने

और दुपट्टे की जगह

एक लड़के नें.....

मैडम मैं क्या करूं

यह बात ही ऐसी करता है

इस तरह भावविभोर होकर

हँसती लड़की को

सिर्फ देखा भर जा सकता है

और इस देखने में

पूरा जीवन बिताया जा सकता है

कल्प को पलों में बदलता हुआ

महसूस किया जा सकता है

पल-पल बनती-बदलती

इन आत्म-लीन लहरों को

मन भर पीया जा सकता है

उसके साथ रहकर

सुदूर दिल्ली में

हुगली के नमक का स्वाद

चखा जा सकता है

उसमें खोया जा सकता है

अपना वजूद भुलाकर,

अपनी ख़ुदाई मिटाकर

हमेशा-हमेशा के लिए

कयामत की घड़ी तक

उसी लड़की की अघोष हँसी को

सुन नहीं देख रहा हूँ मैं

जिसके निमित्त मेरे ही ढीठ शब्द हैं

मैं ख़ुश होता हूँ

अमला-पगला-दीवाना सी

मेरी बातों से

जोड़ी भर रक्तिम अधरों पर

नि:शब्द मगर उजली हँसी की

रजत-आभा फैल जाती है

और एक गौरवर्णा

गंगोत्री बन जाती है सहज ही

देखते-देखते मेरी आँखों के सामने ही

और फूट पड़ती है उससे

एक प्रवहमान धारा

खुशियां बिखेरती अपने दोनों ओर

आगे बढ़ती, हर बाधा को पार करती

निवारण करती दु:खों का

प्रक्षालन करती हर तरह के मैल का

हरती कैसी भी थकान

तरोताज़ा करती तन-मन को

और मैं बहे चला जा रहा हूँ

उसके पथ में,

उसकी गति बनकर

उलटता-पुलटता उसके साथ

ज्यों कोई हिमनद

अपनी रेखाओं और कंपन में

यह हँसी विशिष्ट है

अम्लान है और संभव है

हिमनद और गंगोत्री के बीच कोई

मूक संधि भी हो।

 

 

एक धाविका से प्रेम की कविता...

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..