Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
ज़िंदगी
ज़िंदगी
★★★★★

© RockShayar Irfan

Others

1 Minutes   6.4K    3


Content Ranking

ज़िंदगी तुझपे मेरा, अब इख़्तियार ना रहा
मैं मनाता ही रहा, तू रूठती चली गई । 

वक़्त के ये धारे, अब धुंधले होने लगे
एहसास की नदी में, रेत से जमने लगे ।

मुसाफिर कई मिले, अनजान सफ़र में
हसरतो के आशियाँ, आँखों में लिए हुए ।

ऐतबार करना मगर, बहुत मुश्किल यहाँ
जख्मी दिल अक्सर, सहमा सा रहता है ।

ज़िंदगी मुझको तेरा, बस इंतज़ार ही रहा
मैं पास आता रहा, तू दूर होती गई ।

छुप कर बैठी है, तू गर्दिशो में कहीं
कभी तो झांक इधर, मैं तन्हा खड़ा हूँ ।

सुना है कई रंगो से, मिलकर तू बनी है
मुझे भी दिखा कभी, सुनहरे सपने तेरे ।

ज़िंदगी तुझपे मेरा, अब इख़्तियार ना रहा
मैं लिखता ही रहा, तू मिटाती चली गई ।।

Life Zindagi Poetry Emptiness

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..