कोट्स New

ऑडियो

मंच

पढ़ें

प्रतियोगिता


लिखें

साइन इन
Wohoo!,
Dear user,

नोट : कन्टेन्ट क्रमांक चुने हुए जोनर के तहत फिल्टर में प्रदर्शित होंगे : tragedy

दोस्त
© Sunita Mishra

Children Stories Drama +1

पिताजी ने अपना ट्रांसफर दूसरे शहर ले लिया। वो जानते थे की मैं बिना अपने दोस्तो के read more

5     164    1    1423

काश की तुमसे मिल के तुम्हारा धन्यवाद कर पाती। लेकिन इन सब में मैं इतनी खो गयी कि read more

5     17.4K    115    23

तुम तो मेरी बहन हो, पर मैं किसी भी लड़की को सुगंधा से परी बनते हुए नहीं देखना read more

10     1.2K    54    30


©

undefined     undefined    undefined   

सबके विरोध को दरकिनार कर अपने निर्णय पर अडिग पति को कन्धा दे चल दी मंगला, पति का read more

2     1.4K    89    3

घरु
© satish bhardwaj

Classics Tragedy

जब कभी इंसान मजहब और धर्म के नाम पर बटवारा करता है और उस बटवारे में भीड़ को उन्मादी read more

18     627    9    89

सुनो मैडमजी " दस साल से या यूं समझो जबसे कुछ समझ आया शायद तबसे, शराब के साथ खुद को read more

4     912    60    35

बेटों के सिर से माँ के अंतिम संस्कार के खर्च का बोझ उतर चुका था। उन्होंने इसी स्त्री read more

7     2.4K    151    4

बेटी के बचपन की एक read more

2     8.4K    553    37

भैया ! बहुत हुआ, अब इसे छोड़ दो ! अपनी करनी का फल भोगे जाकर, मालती दरवाजे पर हाथ जोड़े read more

17     951    53    5

यूँ तो मौत हमेशा घेरे रहती है मगर उसके साये में read more

8     440    61    57

जब एक बेमेल विवाह हो तो उसे पहले ही रोकें बढ़ावा न दें क्योंकि इससे आप दो ज़िंदगी read more

3     304    46    341

वो रजनी जो कभी अपने घर की शान थी, अपने पति की जान थी, आज एक फ़ालतू कबाड़ की तरह पड़ी read more

3     9.0K    70    48

क्या सच में उसका रविवार कभी नहीं आएगा। क्या कोई दिन ऐसा नहीं होगा जो उसकी भी छुट्टी read more

5     377    54    152

अम्मा की आंखों के आंसुओं में हर उजड़ा हुआ घर रो रहा था.... बिलख रहा read more

2     580    40    447

यह कहानी समाज के ख़ोखलेपन से लडती महिला पर आधारित read more

7     14.7K    27    491

मैं सोच में पड़ गई कि वे पहले सच बोल रहे थे, या read more

4     531    27    170

जब वापिस बाहर आये तो बच्चा धीरे-धीरे वापिस जा रहा था और उसकी माँ उसे देखे जा रही read more

4     246    49    53

दर्द
© Shalini Prakash

Tragedy Inspirational

भोलू को एक दिन दीदी ने बारिश में अपने घर में पनाह दी, जिसके बाद वो रोज उनके लिए छोटे read more

9     656    18    71

एक सच्ची घटना पर read more

8     14.4K    31    579


©

undefined     undefined    undefined   

सारी सीमाओं से परे... फिर भी एक दूसरे में समाया हुआ.. एक दूसरे को जीता read more

5     619    18    112

हवा का जोरदार झोंका आया, मानो कह रहा हो अलविदा read more

8     794    19    81

हौसलों के बहुत उदाहरण है जो मौत को हराकर जीते read more

5     608    67    17

क्यों न करूँ शिकवा। जब वो सफाईवाले भी आपस में शिकवा कर रहे थे की सब कुछ बढ़िया था read more

3     319    6    90

एक उदास सी लड़की जो गुलाब के पौधे के पास अपने ही गोद में अपना सर छुपाये अपने ही रूह read more

10     13.1K    24    1040

छोटू को घर पहुंचा देगा तो एक लाख से ज्यादा ही रुपए मिल जाएंगे। वो भी बिना मुंह read more

5     555    49    104

भावनाओं पर कोई नियंत्रण ही नहीं रख पाती । पर माँ की गलती है, कभी भी अचानक से read more

16     307    5    361

एक बेबस read more

4     14.6K    36    690

कहते हुए उसकी आँखों में आँसू आ गए, शायद उन आँसुओं में उसका गर्व और उसका दर्द दोनों read more

5     1.9K    534    19

कुछ फिर दरका, कुछ टूटा और फिर टीस वही read more

14     357    15    113

और फिर तीनों चल पड़ते हैं एक नये सफर की ओर, एक नये सिरे से अपनी जिंदगी की शुरूआत करने read more

25     447    55    126