Pooja Mishra

Others


1  

Pooja Mishra

Others


#एक_दिन_की_देवी

#एक_दिन_की_देवी

1 min 195 1 min 195

बत्रा जी के यहाँ से काम करके लौटी माँ ने शालू को मीता की गोद से लेते हुए कहा "बेटा इस बार शालू को भी अच्छी फ्रॉक पहना कर तैयार कर देना कल, मेमसाहब के यहाँ नवमी का कन्या भोज है, ये 2 साल की हो गयी न, तो उन्होंने इस बार इसको भी गिन लिया है कन्याओं में"

मीता के मुंह से दबा सा स्वर निकला,"माँ क्या हम सिर्फ एक दिन के लिए ही देवी माँ बनते, उसके बाद फिर से वही नौकरानी की बेटी बन जाते हैं, ऐसा क्यों है माँ?"


           


Rate this content
Log in