Read a tale of endurance, will & a daring fight against Covid. Click here for "The Stalwarts" by Soni Shalini.
Read a tale of endurance, will & a daring fight against Covid. Click here for "The Stalwarts" by Soni Shalini.

मिली साहा

Others

4.5  

मिली साहा

Others

डिज़्नीलैंड-एक काल्पनिक दुनिया

डिज़्नीलैंड-एक काल्पनिक दुनिया

4 mins
266


कल्पनाओं से परिपूर्ण एक ऐसी दुनिया, जहां रोमांच का नहीं कोई ऐंड,

बच्चों के साथ-साथ बड़ों को भी लुभाती है जो जगह, वो है डिज्नीलैंड।


बच्चों के मनभावन कार्टूंस मिकी माउस, मिनी माउस और प्रिंसेस टियाना,

जिन्हें अब तक देखा था टीवी में, सामने देख, हर बच्चा हो जाता दीवाना।


अमेरिका के कैलिफोर्निया में बना "डिज़्नीलैंड" दुनिया का पहला "डिज़्नीलैंड" है। काल्पनिक दुनिया, मस्ती और रोमांच का ऐसा संगम शायद ही कहीं और देखने को मिलेगा। जो लोग सपनों की दुनिया की सैर करना चाहते हैं उनके लिए इससे बेहतर कोई जगह नहीं। यहांँ आकर लोग कल्पना की दुनिया में इस क़दर खो जाते हैं कि जो कुछ भी आंँखों के सामने वहांँ दिखाई देता है वही वास्तविक लगने लगता है। और स्वयं को उस दुनिया का एक हिस्सा समझने लगता है। शायद ही कोई ऐसा होगा जो रोमांच से भरी इस काल्पनिक दुनिया जी सर ना करना चाहे।


भारत में भी लोगों को "डिज़्नीलैंड" का मज़ा देने के लिए मुंबई में "इमैजिका" के नाम से एक थीम पार्क बनाया गया है। जो लोग "डिज्नीलैंड" जाने में असमर्थ हैं, वह अपनी ख्वाहिश "इमैजिका" में आकर अपनी पूरी कर सकते हैं।


बच्चों के काल्पनिक कार्टून कैरक्टर्स........मिक्की, मिनी माउस, पूह, गूफी, प्लूटो, प्रिंसेस टियाना और टिंकर बेल के साथ अलग-अलग थीम पर बना कैलिफोर्निया स्थित "डिज़्नीलैंड" की स्थापना 27 जुलाई 1955 को हुई। "डिज्नीलैंड" का निर्माण वॉल्ट डिज़्नी ने कराया था इसलिए उनके नाम के आधार पर इसका नाम "डिज़्नीलैंड" रखा गया। बाद में इसे 1988 में "डिज़्नीलैंड" पार्क के नाम से पुनः नामित किया गया।


वॉल्ट द्वारा "डिज़्नीलैंड" बनाने के पीछे एक रोचक कहानी है।......एक बार वॉल्ट डिज़्नी अपनी दोनों बेटियों को एक पार्क में लेकर गए, लेकिन वहाँ बाकी बच्चों की तरह पार्क में घूमने, मस्ती करने की बजाय वॉल्ट की दोनों बेटियांँ शांत और बोर दिखाई दे रही थीं। वॉल्ट को लगा शायद उनको यह पार्क पसंद नहीं आ रहा। या शायद यहाँ कोई ऐसी वस्तु नहीं है जो बच्चों को आकर्षित कर सके। अपनी दोनों बेटियों को इस प्रकार शांत देखकर वॉल्ट गहरी सोच में पड़ गया। तभी अचानक वॉल्ट के मन में एक ऐसे पार्क या एक ऐसी अलग दुनिया बनाने का ख़्याल आया जिसमें बच्चों के साथ उनके माता-पिता भी भरपूर आनंद उठा सकें। बस वॉल्ट ने अपने इसी ख़्याल को मूर्त रूप दिया और दुनिया को इस अनोखे "डिज़्नीलैंड" से रू-ब-रू करवाया। कहते हैं, वॉल्ट "डिज़्नीलैंड" की स्थापना करने के मुकाम तक पहुँचने में करीब तीन सौ बार असफल हुए पर उन्होंने कभी हिम्मत नहीं हारी। जितनी बार भी असफलता उनके हाथ लगी उतनी बार उन्होंने कई गुना अधिक मेहनत की। अपने इस ख़्वाब को साकार करने के लिए‌ दिन रात अथक परिश्रम और प्रयास किया जिसके परिणामफल स्वरूप "डिज़्नीलैंड" के रूप में उनका ख़्वाब हकीकत में बदल कर दुनिया के सामने उभर कर आया। 


"डिज्नीलैंड" की स्थापना हो चुकी थी लेकिन उसके बावजूद भी वॉल्ट दुनिया भर के मनोरंजक पार्कों में घूम-घूम कर देखते थे कि वहाँ के लोगों की दिलचस्पी किन-किन चीज़ों में है। और उसी आधार पर वॉल्ट "डिज़्नीलैंड" में भी उन्हीं चीजों का धीरे-धीरे समावेश करते गए। जो लोगों को अधिक आकर्षित करते हैं। और इस प्रकार "डिज़्नीलैंड" कल्पना की एक ख़ूबसूरत दुनिया के रूप में हम सबके सामने प्रस्तुत हुआ।


"डिज्नीलैंड" केवल बच्चों की ही नहीं बल्कि बड़ों के भी सपनों की रोमांच भरी दुनिया है। "डिज़्नीलैंड" में प्रत्येक वर्ष करीब एक करोड़ 60 लाख पर्यटक पहुंँचते हैं। और आज तक 50 करोड़ से भी ज़्यादा पर्यटक "डिज़्नीलैंड" की रोमांच और मस्ती भरी दुनिया का लुफ़्त उठा चुके हैं। इन पर्यटकों में कई राष्ट्रपति, शाही लोग और अन्य देशों के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी शामिल हैं। और हम में से शायद ही कोई ऐसा होगा जो "डिज़्नीलैंड" न जाना चाहे।


वैसे देखा जाए तो पूरा का पूरा "डिज़्नीलैंड" ही कल्पनाओं, आश्चर्य और रोमांच से भरा हुआ है। फिर भी बच्चों के पसंदीदा कार्टून कैरेक्टरों के साथ अलग अलग थीम पर बने "डिज़्नीलैंड" में पेड़ पर बना टार्जन का घर, इंडियाना जोन्स, टेंपल ऑफ द फोरबिडेन आई, पाइरेट्स ऑफ द कैरेबियन, माउंटेन मेंसन, पैसेंजर ट्रेन, रोमांच से भरी जंगल लाइफ, फेरिस व्हील, स्काई राइड इत्यादि हर समय "डिज़्नीलैंड" में मुख्य आकर्षण का केंद्र बने रहते हैं। इस खूबसूरत मनोरंजक पार्क में कुछ भालू गाना गाते और कलाबाजियांँ करते भी नज़र आते हैं। यहाँ पर मिकी टुनटाउन के नाम से बच्चों के पसंदीदा कार्टून कैरेक्टरों का घर भी बनाया गया है। जो बच्चों को अपनी ओर सदैव ही आकर्षित करता है। 


हालांकि कैलिफोर्निया "डिज़्नीलैंड" की स्थापना के कुछ वर्षों बाद फ्लोरिडा के ऑरलैंडो में "डिज़्नी वर्ल्ड", टोक्यो में "डिज़्नीलैंड", पेरिस में "यूरो डिज़्नीलैंड" और फिर हांगकांग में भी एक "डिज़्नीलैंड" की स्थापना हुई। किंतु कैलिफोर्निया के ऐनाहिम में स्थित "डिज़्नीलैंड" दुनिया का सबसे पुराना और सबसे अधिक विस्तृत "डिज़्नीलैंड" है। यह इतना विशाल और विस्तृत थीम पार्क है कि इसके संचालन और देखरेख में करीब 60 हजार से भी अधिक कर्मचारी कार्यरत हैं।


अतः हम कह सकते हैं कि "डिज़्नीलैंड" किसी खूबसूरत ख़्वाब से कम नहीं। जहाँ कल्पना, रोमांच और मस्ती का कोई अंत नहीं। जिन कार्टून कैरेक्टर्स को बच्चे टीवी पर देखते हैं वो यहांँ "डिज़्नीलैंड" में घूमते फिरते, बातें करते और गाना गाते नज़र आते हैं। अर्थात बच्चों की कल्पना का जीता जागता रूप यहाँ "डिज़्नीलैंड" में मौजूद है।



Rate this content
Log in