Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Chandresh Chhatlani

Others


5.0  

Chandresh Chhatlani

Others


ये परबत पे प्यासी घटाओं का मौसम

ये परबत पे प्यासी घटाओं का मौसम

1 min 184 1 min 184

ये परबत पे प्यासी घटाओं का मौसम,

आओ यहाँ पे खो जाएँ हम।

ये झरनों का संगम, गुलों सा है हमदम,

आँचल तले सो जाएँ हम।


सूरज की पहली किरण जगाये,

चाँद थपकी दे कर सुलाए,

ये चिनारों के पत्ते, बारिश की रिमझिम,

इस जहां में खो जाएँ हम।

ये परबत पे प्यासी घटाओं का मौसम...


हवाएँ महकती चली जा रही,

बारिश की बूँदें गुनगुना रही,

ये किताबों सी मंज़िल, बर्फ का दर्पण,

हौले से इनको छू जाएँ हम।

ये परबत पे प्यासी घटाओं का मौसम...



Rate this content
Log in