Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Vikas Sharma

Others


2  

Vikas Sharma

Others


वर्षा ऋतु

वर्षा ऋतु

1 min 168 1 min 168

चारों तरफ हरियाली छाई

उष्णता जो फैली थी, वो कम हो आई,

नग्न डालों पर, महकी महकी कली खिल आई,

शांत आकाश में भी, बादलों ने हलचल मचायी,

नीरस से पड़े जीवन में, सरसता घुल आयी,

आग उगलती थी धरती भी, उसमें भी शीतलता आई,

अस्तित्व खो रही थी नदियाँ, फिर नवजीवन से संचित हो आयी,

नहीं है कोई ऐसा प्राणी, जिसके मन को ये ऋतु ना भाई,

चारों तरफ हरियाली छाई।


Rate this content
Log in