Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Lakshman Jha

Others

2  

Lakshman Jha

Others

सपना नॉवेल शांति पुरस्कार

सपना नॉवेल शांति पुरस्कार

1 min
298



हमने भी नोबेल शांति पुरस्कार

के सपने संजोये थे

सारे देशों के भ्रमणों में

हमारे ललाटों में चन्दन लगाये थे

लगा हमारे अश्वमेघ के

घोड़े को कौन रोक सकता है

हम अतीत में दुश्मन ही सही

पर नवाज़ के जन्मदिन मनाने

से कौन रोक सकता है


गोधरा नरसंहार के दागों को

मिटाने की लाख कोशिशें की है

क्या करूँ नक्षत्र मेरे बाम हैं

जिसे झूला झुलाया

उसी ने नाकाम करने की

कोशिशें की है


विश्व में यह बात फैली हुई है

धर्म पर आघात जोरों से चली है

देशद्रोह, दलितों का शोषण

आतंकियों की विनाश लीला

मची है

कश्मीर का अब हाल ही

बेहाल बनता जा रहा है


कहने को तो हम कहते हैं

'वे हमारे भाई हैं'

फिर भी उनके अधिकारों का

हनन हो रहा है

खैर, अच्छा हुआ कोलंबिया के

मनुएल संतोस को पुरस्कार

तो मिल गए

उसकेअच्छे प्रयासों से

समस्त आतंकवादी

फार्क देशभक्त बन गए !!



Rate this content
Log in