Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Kavi Amit Kumar

Others

5.0  

Kavi Amit Kumar

Others

शातिर

शातिर

1 min
223


बेहोशी में दर्द की गहराई का पता कहाँ चलता है

वो मुस्कुराता है मगर भीतर ही भीतर तड़पता है

उसे पता है कि तड़प है वो रोता है वो कलपता है


मगर है इतना शातिर कि दिन के उजाले में खूब हँसता है

मैंने सोचा कि उसकी दवा बनूं थोड़ा दिन में उसे रुलाऊँ

पर वो कहाँ मानने वाला है वो तो दिन का हँसने वाला है


ना जाने वो कैसे उस दर्द को छुपाता है

वो गिड़गिड़ा के भी ठंडा क्यों पड़ जाता है

उसकी आँखें सच्चाई बताने से इनकार करती रही

तब तक जब तक मेरी आँखों पर यकीन ना हुआ


वो आँखें ऐसी थी जैसे कोई दो मुहे साँप के फन

जिसको अपना ही जहर गला रहा हो

अब मुझसे रहा नहीं जाता मैं कोशिश करता हूँ उसे

उस तथ्य से परिचय कराने में जहाँ ज़हर का असर

खत्म हो जाता है


मगर ये इंसान कहाँ मानता है, वो दर्द मेरा हृदय जानता है

वो दिल में उठती टीस और मिलावटी मस्तिष्क

और इनके बीच का तनाव जहां एक एक धागा टूट रहा है

लेकिन वो ऐसा की हर टूटे हुए धागे के बाद अगले कमजोर

धागे से दोगुनी उम्मीद लगाता है


और फिर तार तार टूटता हुआ पाता है

लेकिन वो इंसान इतना शातिर आसानी से कहाँ मानता है।


Rate this content
Log in