Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Mr. Akabar Pinjari

Others


5.0  

Mr. Akabar Pinjari

Others


मतलब परस्त हमनशी

मतलब परस्त हमनशी

1 min 438 1 min 438


यूं ही मतलब परस्त हमनशी से

वफ़ा की गुज़ारिश ना करो।


चाहतों के समंदर में,

इन बेपरवाह लहरों से कश्तियों की

आज़माइश ना करो।


हमको पता है अगन और चुभन में

क्या फ़र्क है,

लगता जरूरी है, लेकिन कहां कोई

तर्क है,


शर्मिंदगी उठाकर जीने से बेहतर है,

यूं ही कातिल नज़रों से, खंज़र फेंका

ना करो।


मौसम का रुख़ तो बदल ही सकते हैं

ये परवाज़ परिंदे,

उड़ो कितना भी लेकिन, परों को काटती

बिजलियों से यूं ना टकराया करो।


इतना घमंड ही क्यों है तुम्हें अपने इस

मिट्टी के पुतले पर,

क्या नहीं पता आपको? इस मिटती

खूबसूरती पर यूं ही इतराया ना करो।


Rate this content
Log in