Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

कुछ बारिशें

कुछ बारिशें

1 min
228


कुछ बारिशें बरसती नहीं 

अमावस के चांद जैसी

कुछ खेलती है अठखेलियाँ 

बादलों में छिप कर 

कुछ लम्बी परछाइयों सी 

नजर तो आती है

पर पकड़ नहीं आती।


कुछ बारिशें बरसती नहीं 

आँखों से आंसू बन बह जाती है 

रोज इन्तजार करती है 

कुछ निर्दोष निगाहें 

सपने देखती है पर

धुंधलके में खो जाते है वो


अक्सर कुछ बारिशें बरसती नहीं

डूबो जाती है भीगे मन को 

पानी से नहीं कुछ भावों से 

हावी होने नहीं देता 

ये दिमाग मन और तन पर 

भीग जाती हूँ अक्सर 

इन बारिशों में दरख्तों के साये में।


Rate this content
Log in