Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Mohinder Kaur (Moni Singh)

Others

5.0  

Mohinder Kaur (Moni Singh)

Others

गुरू अर्जन देव साहब जी

गुरू अर्जन देव साहब जी

1 min
220


वह पक्के प्रेमी थे

परमात्मा के

तभी तो

जलती हुई आग के ऊपर

गर्म तवे पर

शांति से बैठ गए

ऊपर से डाली गई

गर्म रेत

उफ्फ तक न की ...


परमात्मा के प्रेम में

ऐसे थे रंगे

कि उनकी कुर्बानी

उनका धैर्य, उनकी शांति

और उनका नूर

आज तक कायम है

चांद सूरज से बढ़कर


Rate this content
Log in