Quotes New

ऑडियो

मंच

पढ़ें

प्रतियोगिता

भाषा


लिखें

साइन इन
Wohoo!,
Dear user,

नोट : कन्टेन्ट क्रमांक चुने हुए जोनर के तहत फिल्टर में प्रदर्शित होंगे : crime

वो दर्द की रात थी... तेज बरसात read more

2     20.5K    8    168

तिल वाला अंगूठा से मोबाइल में आर्टिकल लिख रही थी आजकल स्त्रियाँ सेफ नहीं read more

2     7.3K    83    347

हे ईश्वर, तू है read more

1     13.7K    14    776

अब तुम ही, कह दो छः महीने, की है उसका, क्या छिपा read more

2     14.2K    12    781

Manson makes the argument, backed both by academic research and well-timed poop jokes, that improving our lives.

दोनों के दिल, रक्षासूत्र और ताबीज़ सब राज़ी थे, पर उन्हें देने वाले द्वेष और द्रोह read more

1     13.6K    9    1046

मुट्ठी में कर लेगी दुनिया सात साल की छोटी read more

1     13.8K    14    1076

न्याय
© Somesh Kulkarni

Crime Inspirational +1

'चिंता के कारण बुढ़िया ने मरते समय लिया था नाम, बचा लो उसको कहने वाली थी वो तब तक read more

2     14.0K    8    1166

तुम्हें जगना होगा, एक बार फिर, एक बेहतर भविष्य के read more

2     13.8K    10    1341

फिर एक दिन, वो काली घटा छाई, कुछ खूंखार दरिंदों ने ना जाने क्यों, उस पे अपनी नज़र read more

3     13.4K    10    1342

मैंने तो वक़्त बदलते देखा है, मौसम और ऋतुओं के संग, लोगों का दहेज़ के प्रति, मत read more

1     91    4    1757

तारों की रोशनी के बारे में एक read more

1     13.4K    11    1925

तलवार सी मशीनें घुस गयी, बाबा बहुत चुभ रहा था। काट रहे थे शरीर मेरा तो, बाबा बहुत read more

2     7.1K    12    1997

अब मरता सिर्फ शरीर नहीं, रिश्तों का भी खून read more

1     13.2K    5    2115

क्यों भूल गए तुम? जब कर रहे थे तुम read more

1     7.4K    11    2206

तो इतना न सोचना, पर उनसे पूछना क्यों करते हैं वे ऐसा read more

2     7.0K    7    2432

बाद में समझ, आने का दस्तूर क्यों read more

1     14.1K    10    2578

सब वादे यहाँ झूठे हैं, और आँसू भी हैं read more

1     13.5K    8    2586

हर तरफ मातम पसरा है, घर से निकलने में खतरा read more

1     13.0K    5    2600

मेरे तन पर वस्त्र नहीं, या है पूरा समाज अर्धनग्न read more

1     13.3K    4    2605

लाडो
© Richa Rai

Crime Drama +1

ठुमक ठुमक के चलती थी वह, छम छम पायल बजती थी । अभी इधर थी अभी उधर थी, चलती थी या read more

1     6.7K    11    2633

कविता
© Swapnil Vaish

Crime Inspirational

जिन्हें जीना था अभी शान से, उनको तुमने है मारा; अब तुम्हें सांस भी लेना महँगा कराया read more

1     86    4    2665

है वजूद मेरा read more

1     7.3K    8    2847

A supernatural thriller that deals with a deadly conspiracy plotted 350 years ago and takes the readers on an adventure.

हर रात की तरह उस रात भी सो गया, सुनी जब खबर तो दिल मेरा भी रो read more

1     7.4K    7    3102

दरिन्दगी भर गयी है खून में हैवान कर रहे read more

1     6.9K    7    3102

कराहती हुई रूह को सहलाते हैं खुदा करेगा इन्साफ ये समझाते read more

1     7.7K    16    3143

हर रोज स्याह होती जा रही, व्यथाओं की तस्वीर read more

2     14.0K    10    1044

दूर - दूर तक इंसानियत का कोई वास्ता नहीं है read more

1     6.8K    11    3432

आदत सी हो गयी है अबनज़रअंदाज़ करने read more

1     20.6K    10    3535

इक नारी होना गुनाह है, अपने बारे में सोचना गुनाह है, या फिर जीना ही गुनाह read more

1     1.8K    6    3660

भीड़
© S Suman

Crime Drama +1

भीड़ तो ऐसी ही होती है ! अपनी प्यास बुझाने, कुछ अंतराल बाद फिर दस्तक देगी वो read more

2     6.6K    5    3665