Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

आँसू छिपाती पगली

आँसू छिपाती पगली

1 min 138 1 min 138

उलाहने तानों की सताई

वो जलती तपती पहली बारिश की

छम -छम की धारा में नहाने चली..!


शब्दों की बूँदा बाँदी के

घाव से टकराकर बरखा की रिमझिम रोती है 

कितनी तेज है शब्दों की मार 

सावन की बौछार में नहाते भी

एक नारी के तन को नहीं मिलती 

शीतल परत की मरहमी..!

 

जलना है जलती रहेगी सहते सहते

गर्म बाण शब्दों के उबलते

तरकस से निकलते छलनी करते..!

 

हिमखंड सी नर्म सौम्य रोम रोम पिघलती

एक तपिश ज़िंदगी की कहाँ जाए कोई, 

अपने ही जब दर्द दे फ़रियाद की गुंजाइश नहीं..!

 

बुत सी बन बैठी ना ताप जलाएँ ना ठंडी सताती,

बारिश का बहाना लिए पगली आँसू है छुपाती।।


Rate this content
Log in