Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Babita Komal   Author of the Year 2018 - Nominee

चर्चित पुस्तक 'मैं हूँ बबली .......एक लड़की' की लेखिका। नलबाड़ी (असम) वासी।

  Literary Colonel

लड़कों की भी विदाई होती है

Tragedy

सवाल करता बेटा, जा उसे बचपन में जबरदस्ती माँ बाप के सपनों के साथ शहर पढ़ने भेज दिया गया...और अब जब वो...

7    393 10

वेटिंग लिस्ट

Tragedy

वह भुनभुना रही थी बूढ़े सास ससुर आफ़त हैं, पर जब माँ की हालात सुनी तो गुस्से से चेहरा लाल हो गया

1    278 2

बेटी जैसी बहू

Others

रमा बहुत खुश थी की वह बहु नहीं बेटी जैसी है, पर वक्त ने उसे समझाया बेटी जैसी और बेटी होने का फ़र्क

1    461 8

बँटवारा

Drama

चार साल के अंतराल में अपने भाई के बढे रुतबे को देखकर वह भौंचक्का रह गया। पिता की हालत बहुत खराब थी।

5    567 16

एक सैनिक का खत

Drama Inspirational

प्रिया, मुन्ने को बचपन से ही सैनिक बनने की शिक्षा देना ताकी वह, वो कर सके जो मैं नहीं कर पाया...!

7    2.2K 10

अपना घर

Crime Drama Inspirational

"मैं न मायके मैं रहूंगी और न ही ससुराल में, मैं अपने घर में रहूंगी ! बस, मैं वहाँ आ गई हूँ...।"

1    7.9K 29

दुखी होने का अधिकार

Drama

विदाई के समय भार इतना अधिक हो जाता है कि उसके तले दबे अपने परिजन को खोने वाले घरवाले दुःखी होने का अ...

7    14.5K 25

ज़माना ऐसा ही है

Drama

एक लघुकथा।

2    14.4K 56

जन्मों का रिश्ता

Romance

जन्मों का एक रिश्ता...।

8    2.0K 39