साहित्यसेवी सत्येन्द्र सिंह

Others


2.8  

साहित्यसेवी सत्येन्द्र सिंह

Others


इन्वेस्टमेंट

इन्वेस्टमेंट

1 min 94 1 min 94

वो अलगू से किसी बात पर बहुत नाराज़ थे।

अलगू कोई और नहीं, एक छोटा सा किसान था उनके ही गाँव का।

पर अपना गुस्सा वह न चाहते हुए भी निगल रहे थे...जैसे तैसे प्यार की बोली बोल रहे थे।

यह आने वाले चुनाव के लिए उनका छोटा सा इन्वेस्टमेंट था।


Rate this content
Log in