Seema Mishra

Others


1  

Seema Mishra

Others


हम सब कठपुतली ही है

हम सब कठपुतली ही है

1 min 124 1 min 124

प्रायः लगता है सबको कि बहुत पैसा कमा लिया, जमीन, जायदाद, ऐशोआराम की सारी चीजें जुटा ली,और अभिमान से भर जाते हैं, अहंकार आँखों में भरकर अपने आपको सर्व शक्तिमान समझने लगते हैंइस लाकडाऊन में बहुत लोगों की समझ आ गया होगा कि इन चीजों का महत्व जिंदगी से ज़्यादा नहीं है और लाकडाऊन के बाद शायद वो एक नई जिंदगी की शुरुआत करें और उनकी मदद करें जो आर्थिक तंगी में जीवन यापन कर रहे हैं फिलहाल तो समझ आ गया कि हम चाहे जैसा अपना मंच सजा ले, पटकथा लिख ले, किरदार अपने अनुसार निभा ले कर ले, पर डोर तो उसी ऊपर वाले के हाथ है हम सब कठपुतली की तरह ही हैं।



Rate this content
Log in