Travel the path from illness to wellness with Awareness Journey. Grab your copy now!
Travel the path from illness to wellness with Awareness Journey. Grab your copy now!

Piyush Goel

Others

4  

Piyush Goel

Others

गणेश और तुलसी की कथा

गणेश और तुलसी की कथा

2 mins
62


भगवान गणेश को प्रथमपूज्य कहा जाता है , वही तुलसी को भी हिन्दू धर्म मे देवी का दर्जा दिया जाता है । तुलसी हरिप्रिया है पर श्री गणेश को तुलसी का भोग नही दिया जाता । आज इस रचना में मैं आपको इसका कारण बताने जा रहा हूँ ।


एक बार गणेश और कार्तिके में इस बात पर विवाद छिड़ गया कि किसका विवाह पहले होगा ? गोरी - शंकर ने इस विवाद को सुलझाने के लिए अपने दोनों पुत्रो को बुलाया और कहा कि जो भी तीनो लोको की परिक्रमा सर्वप्रथम करेगा , उसका ही विवाह पहले होगा । यह शर्त सुनकर कार्तिके खुश हुए क्योकि वह जानते थे कि उनका वाहन मोर है , इसलिए वह ही प्रथम आएंगे । कार्तिके तीनो लोको की परिक्रमा करने के लिए निकल पड़े । गणेश का वाहन मूषक था इसलिए वह नही जीत सकते थे तब उन्होंने एक मार्ग निकाला ओर उन्होंने अपने माता - पिता की परिक्रमा करी क्योकि माता पिता को तीनों लोकों से भी श्रेष्ठ माना जाता है । कार्तिके जब वापस आए ओर उन्हें गणेश की विजय का संदेश मिला तब वह रुष्ट होकर कैलाश को त्यागकर दक्षिण की ओर चले गए ।  


गणेश इसके लिए स्वयम को जिम्मेदार मानने लगे , इसलिए उन्होंने निश्चय किया कि वह भी कैलाश छोड़कर चले जाएंगे और आजीवन अविवाहित रहेंगे । 


गणेश कैलाश छोड़ कर चले गए ओर एक स्थान पर तप करने लगे , तभी तुलसी की नज़र श्री गणेश पर पड़ी । श्री गणेश का मंगलकारी रूप देखकर तुलसी मोहित हो गयी । ओर वह श्री गणेश के पास गयी और विवाह प्रस्ताव रखा तब श्री गणेश ने तुलसी को मना कर दिया जिससे क्रोधित तुलसी ने गणेश को कहा कि आपका विवाह अवश्य होगा । इससे श्री गणेश अति क्रोधित हुए , उन्होंने तुलसी को श्राप दिया कि तुम्हे असुरपति मिलेगा । इससे तुलसी और रुष्ट हुई और गणेश को दो विवाह करने का श्राप दिया । गणेश अति क्रोधित हुए ओर तुलसी का श्राप दिया कि तुलसी असुरपत्नी बनने के बाद ऋषिपत्नी के श्राप से एक पौधे में बदल जाएगी । यह सुनकर तुलसी अति भयभीत हो गयी और वह विघ्नहर्ता से प्रार्थना करने लगी और कहने लगी हे विघ्नहर्ता ! ऐसा मत करिए , मुझे अपनी सेवा का एक मौका दीजिये तब गणेश बोले कि तुलसी ! तुम पौधा बनने के बाद वनस्पतियों में श्रेष्ठ होगी और हरिप्रिया बनोगी साथ ही में देवता तुम्हारा भोग की स्वीकार करेंगे पर मुझे तुम्हारा भोग मात्र मेरे जन्मदिन ( गणेश चतुर्थी ) को ही चढ़ेगा । 


यही कारण है कि गणेश चतुर्थी के ही दिन तुलसी का भोग श्री गणेश को चढ़ता है । 


Rate this content
Log in