End of Summer Sale for children. Apply code SUMM100 at checkout!
End of Summer Sale for children. Apply code SUMM100 at checkout!

Sapna Shabnam

Others


5.0  

Sapna Shabnam

Others


ये ज़िन्दगी

ये ज़िन्दगी

2 mins 332 2 mins 332

ये ज़िन्दगी बड़ी अस्त व्यस्त सी लगती है

वक़्त हीं कहाँ है पल भर ठहरने को

सुबह के अलार्म से जो रफ़्तार शुरू होती है

वो शाम की हड़बड़ी पर आकर रुकती है

ये ज़िन्दगी बड़ी अस्त व्यस्त सी लगती है

वो जो मियां की मस्ज़िद वाली दौड़ होती है ना


ठीक वैसी ही है ये दौड़

जो हमारे घर से दफ़्तर और दफ़्तर से घर आकर रुकती है

ये ज़िन्दगी बड़ी अस्त व्यस्त सी लगती है

इस बीच अक़्सर बहुत कुछ कहती है ये ज़िन्दगी


चुपके से आकर कानों में

कि अब लौट भी जा ऐ पँछी, सुकून नहीं है 

दौलत के उन कैदखानों में

पर हड़बड़ी कुछ इस क़दर है दौड़ की

जिसमे ना कुछ दिखाई देता है ना सुनाई देता है


बेख़बर है इस दौड़ की मंज़िल से सब

पर हर कोई इसमें दौड़ता दिखाई देता है

और एक दिन..

एक दिन जीवन की शाम ढलने लगती है

ज़िन्दगी की बातें यूँ अचानक सुनाई पड़ने लगती है

जी में आता है कि क्यूँ ना एक बार मुड़कर देखा जाये

जिन बातों को नज़रअंदाज़ करते थे कभी,

क्यूँ ना उनसे जुड़कर देखा जाये


पर अब ये खेल इतना आसान नहीं है ज़नाब

यहाँ सब कुछ आपके बस में नही होता..

वक़्त ने भी अब ली है करवट कुछ ऐसी

कि अब वो पीछे मुड़ने की इजाज़त नहीं देता।


नहीं!! डर जाती हूँ ऐसी कल्पना मात्र से

डर जाती हूँ बिना मंज़िल वाली दौड़ से

डर जाती हूँ ज़िन्दगी की इस होड़ से

चन्द घण्टों के लिए ही सही

चन्द मिनटों के लिए ही सही

या फ़िर चंद पलों के लिए ही सही

मुझे ठहरना है, मुझे ठहर कर आत्म निरीक्षण करना है

रोज़ की भागदौड़ से कुछ वक़्त चुरा कर 

उसे खुद पर लुटाना है

ख्वाबों के तिनकों को जोड़-जोड़ कर

मुझे एक आशियाना बनाना है

मुझे ठहरना है, मुझे ठहर कर उस ओर जाना है


जो राह मुझे ज़िन्दगी दिखाती है

मुझे ठहर कर वो गीत गाना है 

जो ज़िन्दगी अक़्सर मेरे कानों में गुनगुनाती है

उसके गीतों में खुशबुएँ है फूलों की.. झरने है, तालाब है,

और नदियों का बहता पानी है

इससे पहले कि वक़्त आ जाये उसे अलविदा कहने का

मुझे जी भर कर उससे यारी निभानी है।


Rate this content
Log in