Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Anju Singh

Others

4.2  

Anju Singh

Others

" ये लड़के "

" ये लड़के "

2 mins
139


अकसर लोग ये कहते हैं

लड़के ऐसे होते हैं

लड़के वैसे होते हैं

वे कुछ सोचते नहीं

पर इनकी जिंदगी भी 

इतनी आसान कहाॅं होती

ये भी ना जानें

कितनें संघर्ष करते हैं


वे मन की भावनाएं 

जाहिर नहीं करतें

वे खुद के टूट जानें 

पर भी हॅंसते रहतें हैं

किसी को कुछ 

खबर नहीं होनें देतें 

ये भी बेहद सहनशील होते हैं


सदियों से है उन्हें  

यही सिखाया जाता

कि मर्द को दर्द नहीं होता

वे अंदर ही अंदर रोते हैं

अपनें ऑंसुओं को छुपाते हैं

और सामान्य नजर आते हैं

लड़के भी संवेदनशील होते हैं


लोग कहते हैं

लड़के आवारा होते हैं

मगर वो भी अपने 

पिता की इज्जत के लिए

कुर्बान हो जाते हैं

हर दुख दर्द सहते हैं 

पर मुंह से कुछ ना कहते हैं  

जनाब ये भी रोते हैं

अपनी जिम्मेंदारिया कंधों पर लेते हैं


लड़कों को यूं ना बदनाम करों

वे भी संस्कारी होतें हैं

मुछें निकल आतीं हैं उनकी

पर मन से बच्चें होतें हैं

इन्हें भी दुख दर्द होता है

जब घर से दूर जातें हैं

पर किसी पर प्रकट नहीं करतें

 लड़कें भी दृढ़निश्चयी होतें हैं


मां के पास में

नखड़े करने वाले 

बाहर एडजस्ट हो जाते हैं

मॉं को चिंता ना हो कभी 

इसलिए फोन पर खुद को 

हमेशा ठीक बतातें हैं

ये लड़के भी ना अजीब होतें हैं


अपनें सपनों की खातिर

ये भी मजबूर होते हैं

अपनी तकलीफें कह नहीं पातें

खुद ही सहतें रहते हैं

सिर्फ लड़कियां ही नहीं

ये भी कोमल दिल के होतें हैं

माना कि ऑंसू छुपाते हैं

 पर ये भी ऑंसू बहाते हैं

लड़के भी नाजुक दिल के होतें हैं


 उठती है सदा उंगलियां लड़कों पर

पर हमेशा गलत 

लड़के नहीं होते हैं

हमारें दिए संस्कारों पर चलते हैं

दूसरों के लिए भी लड़ते हैं

रिश्ते बनातें और निभाते हैं

प्यार कमातें और जताते हैं

पर हम कहां इन्हें अपना दुख दर्द 

बाॅंटने की इजाजत देते हैं

लड़के भी उम्मीदों पर खड़े उतरते हैं


ज्यादा कपड़ों का उन्हें शौक कहॉं

कम में ही खुश हो लेते हैं

बहुत कुछ सहते रहते हैं

पर खुद पर सब्र रखते हैं

सबकी बातें सुन लेते हैं

किसी से कुछ ना कहते हैं

लड़के भी विन्रम होतें हैं


लड़कियों की विदाई का

 सभी हवाला देते पर

लड़कों की विदाई का 

कोई जिक्र नहीं करते

आज के समय में तों

लड़के भी परदेसी बन जाते हैं

वे भी माता -पिता से दूर हो जातें हैं

कुछ अनकहे अल्फाज सदा

इनके मन में दफन हो जाते हैं

सच में ये ना जानें 

कितनें किरदार निभाते हैं

लड़कें भी बड़े अजीब होते हैं!


Rate this content
Log in