Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Abhishek Singh

Others

3  

Abhishek Singh

Others

वो ख़्वाब और मैं

वो ख़्वाब और मैं

1 min
297


ख्वाबों को आँखों में सजाना चाहिए 

शिकस्त पे क्या हमें घर लौट जाना चाहिए 


अब जो उड़ चुका हूं मैं अपने आशियाने से 

क्या मुझे अपनों को मुड़ के देखना चाहिए


वो है शमा मैं हूँ पतंगा ये है मोहब्बत

क्यों मुझे ही हर बार जलना चाहिए


कहा तो था कि फिर मिलेंगे इसी जगह 

क्या मुझे अपने वादों से मुकरना चाहिए


कोई मज़हब पूछता है कोई रब पूछता है

इस हाल में क्या मुझे काफ़िर बनना चाहिए


सब कहते है कि वो बेहद खूबसूरत है 

क्या मुझे उसका ख्याल छोड़ देना चाहिए 


एक तरफ है शराब और दूजी तरफ वो आँखें 

तुम्ही बतलाओ क्या हमें संभल के चलना चाहिए



Rate this content
Log in