Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Anju Motwani

Others

2  

Anju Motwani

Others

विराम

विराम

1 min
264


अमर है आत्मा  

नहीं मरती किसी अस्त्र 

किसी शस्त्र से 

बदलती है चोला

बार -बार 


शरीर का पिंजर 

हर बार 

नये परिवेश में 

ढ़ालता है खुद को 

परम्पराओं को 

ठुकरा कर 

लेटेस्ट फैशन के हिसाब से 

मॉडर्न बनता है 

सीखता है नयी बातें  

जानता है दुनिया को 

अपनी नज़र से 


आत्मा 

कई बार निकलना

चाहती है इसके घेरे से बाहर 

संसार के नियम कायदों से 

होना चाहती है मुक्त

लेकिन न जाने कौन सी 

बेड़ियों से बंधी छटपटाती है 

और जीती है उम्र कैद में 

अपने सफ़र के विराम तक


Rate this content
Log in