Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

Jyotiramai Pant

Others


2  

Jyotiramai Pant

Others


तपती धरा

तपती धरा

1 min 227 1 min 227

बादल जब झुका धरती को चूमने

देखते विवश किया सबको झूमने।


छलक उठता प्यार मिलन का है ये पल

अश्रु कण मोती झरे मन को सींचने।


प्यास धरा की  जब गई देखी नहीं

हवा नभ में लगी बादल को खींचने।


बूँदे अमृत बरसती तपती धरा

पुलकित हो निरखे स्वयं को भीगने।


घेरती सावन घटाएँ उमड़ घुमड़

विरहिणी दृग तरसे प्रिय को खोजने।

   



Rate this content
Log in