Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Madhu Pradhan

Others Abstract


4.0  

Madhu Pradhan

Others Abstract


सूर्य पुत्र,सर्प,लो आगयी बरसात

सूर्य पुत्र,सर्प,लो आगयी बरसात

1 min 166 1 min 166

श्री शिवनारायण जौहरी विमल

पालने का पराक्रम             

हर बार दिखाया तुमने

युग पुरुष के आगमन

का शंख बजाया तुमने

यशोदा के लाल श्रीकृष्ण।

 

खेल में फोड़ कर मटकी,

नकार राजा की बपौती

लुटा कर गाँव का माखन

कंस मामा को दी चुनौती। 

क्रांतिकारी कृष्ण

 

रास लीला और बंसी से

जन जागरण कर ब्रिज में  

छीन ली कंस से ब्रिजभूमि

ग्वालो के सखा श्रीकृष्ण।    

 

अपदस्त को बना कर राजा

 सिंधु तट पर बसाई द्वारिका

कंस और शिशुपाल ने अपने

अंत को स्वयं आमंत्रित किया

और किसी को छुआ तक नहीं 

गीत गाया महाभारत में

जीवन के संघर्ष का उपनिषद

अर्जुन के सारथी श्री कृष्ण।


       (दो)


यह कैसा न्याय मेरे नाथ

खूनी के सर पर तुम्हारा हाथ

फोड़ दो भ्रमित पापिन आंख 

जिस को पैर की मणि में 

आँख का भ्रम हो गया

काट दो यह हाथ दोनों

किया शर संधान जिनने

रो रहा था बहेलिया खूनी

घायल कृष्ण के पैरों तले।

अस्त होते जा रहे श्री कृष्ण

 

दो तारिकाएँ उतर कर आगई

रोशनी से जल उठा जंगल  

राधा ने गोद में सिर रख लिया

बालों में उँगलियाँ चलने ;लगीं

सुदामा चोट सहलाने लगे।

प्यार के अवतार थे श्रीकृष्ण


लाए गए जब द्वारिका तट पर 

आगया तूफान सागर में

जैसे कृष्ण के साथ

द्वारिका भी डूब जाएगी।।।


श्री शिवनारायण जौहरी विमल




Rate this content
Log in